शिक्षकों की मनमानी से अंधकार में सेवढ़ा उत्कृष्ट विद्यालय के छात्रों का भविष्य

इस मामले में प्राचार्य महावीर गुप्ता का कहना है कि लगातार प्रियंका श्रीवास्तव मेडिकल छुट्टी पर है 30 अक्टूबर के बाद उनके खिलाफ हटाने की कार्यवाही की जाएगी।

सेवढ़ा, राहुल ठाकुर। मध्यप्रदेश शासन (MP Government) ने छात्र-छात्राओं के भविष्य को देखते हुए पढ़ाई के साथ व्यवसायिक शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए तमाम योजनाओं को प्रारंभ तो कर दिया है लेकिन इसका नियंत्रण रखने वाले उदासीन अधिकारियों की वजह से यह योजना दिन-प्रतिदिन गर्त में जाती नजर आ रही है। ठीक यैसा ही उदाहरण हम दतिया (Datia) के सेवढ़ा उत्कृष्ट विद्यालय (Sevada Excellence School) का है, जहां पर व्यवसायिक शिक्षा के प्रोत्साहन के लिए आईटी और रिटेल के विषयों का चयन छात्रों के लिए किया गया है लेकिन इन शिक्षकों की हाजिरी केवल उपस्थिति पत्रको में ही नजर आती है न कि कक्षाओं में, जब से व्यवसायिक शिक्षा का आयोजन प्रारंभ किया गया है तब से लेकर आज तक आईटी और रिटेल की कक्षाएं उत्कृष्ट विद्यालय में नहीं लगी है केवल और केवल यह कक्षाएं कागजों पर चल रही है। एमपी ब्रेकिंग की टीम द्वारा लगातार इस बात पर गौर किया जा रहा है कि व्यवसायिक शिक्षा से सम्बंधित कक्षाएं कब संचालित होती है इसका पता समय सारिणी से पता तो लग गया लेकिन ये शिक्षक कक्षाओं में आज तक नजर आए।

यह भी पढ़ें…आर्यन खान को नहीं मिली जमानत, जेल में कटेगी रात, बुधवार को फिर होगी सुनवाई

20 दिन से मेडिकल पर रिटेल विषय की शिक्षका
जब हमारी टीम के द्वारा पिछले 3 अक्टूबर को उक्त विद्यालय में व्यवसायिक शिक्षा से सम्बंधित विषयो के शिक्षकों के बारे में प्राचार्य महोदय से बात की गई तो उनका कहना है कि प्रियंका श्रीवास्तव मेडिकल छुट्टी पर है और वास्तविकता यह है कि वह यदा कदा ही विद्यालय में महज अपने हाजिरी पत्रक पर हस्ताक्षर करने ही आती है। जब मंगलवार को पुनः मीडिया टीम विद्यालय में व्यवसायिक शिक्षा से संबंधित विषयों की क्लास के बारे में प्राचार्य एम.पी. गुप्ता से बातचीत की तो 20 दिन गुजर जाने के बाद भी उक्त शिक्षका मेडिकल छुट्टी पर होना उनके द्वारा बताया गया। यहां गौर करने वाली बात यह है कि अगर 20-20 दिन मेडिकल छुट्टी पर शिक्षक रहेंगे तो सरकार के द्वारा चलाई जाने वाली महत्वकांक्षी योजना कितना असर धरातल पर छोड़ेगी ये समझ से परे है।

इन शिक्षकों की मनमानी से छात्रों की संख्या हुई नगण्य
व्यवसायिक शिक्षा के लिए प्राचार्य द्वारा अपने कागजी कार्रवाई को आगे बढ़ाते हुए छात्रों का चयन व्यवसायिक शिक्षा को चलाने के लिए कर तो लिया लेकिन यदा कदा आने वाले आईटी व रिटेल की कक्षाओं को नियमति लगने के लिये महज औपचारिकता का निर्वहान किया गया, जिसका नतीजा यह है कि छात्रों की उपस्थिति कागजो पर तो पंजीकृत है लेकिन धरातल पर नहीं। वहीं इस मामले में प्राचार्य महावीर गुप्ता का कहना है कि लगातार प्रियंका श्रीवास्तव मेडिकल छुट्टी पर है 30 अक्टूबर के बाद उनके खिलाफ हटाने की कार्यवाही की जाएगी।

यह भी पढ़ें…कृषि विभाग के अधिकारी से मारपीट करने वालों के शस्त्र लाइसेंस होंगे निरस्त-अशोकनगर एसडीएम