एसडीएम व तहसीलदारों को मुख्यालय पर रहने के निर्देश,कलेक्टर ने मांगे आपदा प्रबंधन के सुझाव

दतिया/सत्येंद्र सिंह रावत

दतिया कलेक्टर ने जिले में आए टिड्डी दल को भगाने की व्यवस्था करने और प्रभावित क्षेत्र में टिड्डी नाशक दवा का छिड़काव कराने के लिये उपसंचालक कृषि को निर्देश दिए हैं। सोमवार को कलेक्टर ने ये निर्देश समय सीमा पत्रों की समीक्षा बैठक में दिए। बैठक में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत अतेन्द्र सिंह गुर्जर, अपर कलेक्टर विवेक कुमार रघुवंशी समेत विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

कलेक्टर ने उपसंचालक कृषि को निर्देश दिए कि जहां-जहां टिड्डी दल की मौजूदगी है, वहां उन्हें जिले की सीमा से भगाने का इंतजाम किया जाए। साथ ही टिड्डी नाशक दवा का छिड़काव कराया जाए। टिड्डी दल को भगाने के लिए थाली बजाने जैसे या इसी तरह के अन्य उपाय किए जाएं। कलेक्टर ने कृषि विभाग के अंतर्गत राहत प्रकरणों के लंबित प्रकरणों का तत्काल निस्तारण करने के निर्देश उपसंचालक कृषि को निर्देश दिए। इसी के साथ गन्ना किसानों को भुगतान कराने के भी निर्देश दिए गए वहीं कस्तूरी गार्डन को अतिक्रमण मुक्त कराने हेतु आवश्यक कार्यवाही के लिये महाप्रबंधक उद्योग को निर्देश दिए।

एसडीएम एवं तहसीलदारों को मुख्यालय पर रहने के निर्देश
कलेक्टर रोहित सिंह ने अनुविभागीय दंडाधिकारियों एवं तहसीलदारों को अपने मुख्यालय पर ही रहने के निर्देश दिए हैं। विभिन्न विभागों के अधिकारियों की बैठक में कलेक्टर ने कहा कि जिन अनुविभागीय दंडाधिकारियों और तहसीलदारों को जो शासकीय आवास गृह आवंटित हुए हैं, वे उन्हीं में रहना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि जो अधिकारी पूर्व में यहां पदस्थ रहे हैं, वे शासकीय आवास गृह रिक्त कर दें। कलेक्टर ने साफ शब्दों में कहा कि जिन राजस्व अधिकारियेां को जो शासकीय आवास गृह आवंटित किए गए हैं, वे उन्हीं में रहना सुनिश्चित करें।

समय पर सेवाएं न देने पर अधिकारियों पर लगाया जाएगा अर्थदंड
लोक सेवा प्रदाय गारंटी अधिनियम के तहत जनता को समय सीमा में सेवाएं प्रदान करने के लिये अधिकारियों को निर्देशित किया गया। साथ ही कहा कि समय सीमा में सेवाएं प्रदाय ना करने वाले अधिकारियों पर अर्थदंड लगाया जाएगा।

पशु उपचार केन्द्रों का निर्माण जल्द पूर्ण कराने के निर्देश
जिले में पहल कर पशु उपचार केन्द्रों का निर्माण कार्य जल्द पूर्ण कराने के लिए उपसंचालक पशु चिकित्सा को निर्देश दिए गए हैं। कलेक्टर ने उपसंचालक पशु चिकित्सा से कहा कि वे पंचायतों से समन्वय कर इस कार्य को जल्द पूर्ण कराने की कार्यवाही करें।

इसी के साथ कलेक्टर ने महिला स्वसहायता समूहों से सिलाई कार्य कराने की प्रगति की भी समीक्षा की और ग्रामीण आजीविका मिशन के प्रतिनिधि को इसकी कार्य योजना बनाने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने लीड बैंक प्रबंधक को निर्देश दिए कि गत वित्तीय वर्ष में जिन कल्याणकारी योजनाओं के अंतर्गत बैंकों को अनुदान राशि प्राप्त हुई थी, उनके बारे में बैंकर्स से चर्चा कर लंबित प्रकरणों का जल्द निस्तारण कराने को भी कहा। आत्मनिर्भर भारत के अंतर्गत नवाचार किए जाने के लिए अधिकारियों से सुझाव देने को कहा है। कलेक्टर ने अधिकारियों से कहा कि नवाचार के लिए सुझाव देने में खानापूर्ति ना की जाए। इसके लिए जो कार्य सुगमता से किया जा सके, उसका सुझाव दिया जाए।

किल कोरोना अभियान की मॉनिटरिंग करने के निर्देश
जिले में चल रहे किल कोरोना अभियान की गंभीरता से मानिटरिंग करने के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। कलेक्टर ने कहा कि इस अभियान के अंतर्गत घर-घर जाकर सर्वे किया जा रहा है। इसके लिए कहां कितना अमला लगेगा, इसकी व्यवस्था के लोक स्वास्थ्य विभाग की टीम काम करेगी।

आपदा प्रबंधन की बैठक में मांगे गए सुझाव
जिले को कोरोना मुक्त करने के लिए कलेक्टर रोहित सिंह की अध्यक्षता में संपन्न आपदा प्रबंधन की बैठक में अधिकारियों और समाजसेवियों से सुझाव मांगे गए। बैठक में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आर.डी. प्रजापति, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत अतेन्द्र सिंह गुर्जर, अपर कलेक्टर श्री विवेक कुमार रघुवंशी समेत जिले के अनुविभागीय दंडाधिकारी, अनुविभागीय अधिकारी पुलिस तथा समाजसेवियों में सर्वश्री बलेदव राज बल्लू, मनोज गोस्वामी, राजू त्यागी, विजय झंडा गुरू, दीपक बेलपत्री, पंकज शुक्ला, दिनेश गुप्ता, प्रशांत दांगी उपस्थित थे।

कलेक्टर ने कहा कि आसपास के जिलों में बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित मरीज सामने आ रहे हैं। हालांकि दतिया जिले में चिंता किए जाने की जरूरत नहीं है, लेकिन बचाव के लिए सर्तकता बरतना बहुत आवश्यक हैं। दुकानदारों को दुकान खोलने के समय, मार्केट खोलने का समय निर्धारित करने, नियमों का उल्लंघन करने वाले दुकानदारों पर अर्थदंड लगाने, औचक निरीक्षण के लिए पुलिस बल एवं अधिकारियों के संयुक्त दल बनाने के सुझाव दिए गए। कलेक्टर ने अनुविभागीय दंडाधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अपने क्षेत्र के लिए अनुविभागीय अधिकारियों पुलिस और समाजसेवियों की बैठक बुलाकर सुझाव लें।

जिले में इस वर्ष अब तक 403 मिलीमीटर कुल वर्षा
जिले में इस वर्ष अब तक 403 मि.मी. कुल वर्षा दर्ज की गई है। जबकि गत वर्ष इस अवधि में 377 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई थी। अधीक्षक भू-अभिलेख दतिया से प्राप्त जानकारी के अनुसार अब तक जिले में तहसीलवार दतिया में 149.0 मि.मी., सेवढ़ा में 104.0 मि.मी. तथा भाण्डेर में 150.0 मि.मी. वर्षा दर्ज की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here