मकरसंक्रांति पर्व पर हजारों लोगों ने पहुज नदी में लगाई आस्था की डुबकी

दतिया। सत्येंद्र रावत।

मकरसंक्रांति पर दतिया जिले में भगवान भास्कर की नगरी सूर्य मंदिर बालाजी धाम में पहुज नदी के तट पर हजारों श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई और पर्व स्नान कर मकरसंक्रांति पर्व मनाया है। जिला मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर उनाव बालाजी धाम में मकरसंक्रांति पर्व पर स्नान करने का विशेष महत्व है। जिससे दूर दराज से लोग यहां पर आज के दिन स्नान करने आते है। बुधबार के दिन उनाव कस्बे में बने अति प्राचीन भगवान भास्कर के मंदिर में स्न्नान ओर पूजा अर्चना के लिए हजारो श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। इस प्राचीन मंदिर की खास बात यह है कि उनाव कस्बे निकली पहुज नही भगवान भास्कर के चरण पखारते हुये निकलती है ओर पहुज नदी में स्नान एवं सूर्य भगवान पर नदी का जल अर्पित करने से कुष्ठ रोगियों की समस्याओ का निवारण होता है। मकरसंक्रांति पर पहुज नदी में लगभग 20 हजार लोगों ने पर्व स्नान किया है। गौरतलब है पूरे देश मे भगवान भास्कर का एक मात्र   सूर्य मंदिर है, जो उनाव बलानी धाम के नाम से विख्यात है। मान्यताओं के अनुसार आज के ही दिन ग्रहों के स्वामी सूर्य मकर राशि मे प्रवेश करते है।  जिससे मकरसंक्रांति पर्व मनाया जाता है और उनाव बालाजी में आज के दिन स्नान करने का बड़ा महत्व है।