MP में तेजी से बढ़ रहे केस, कलेक्टर की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव, परिवार के अन्य सदस्य भी हुए संक्रमित

कोरोना उपचार के लिए निजी अस्पतालों के अनुबंध को भी है कि 31 मार्च 2022 तक बढ़ा दिया गया था।

दतिया, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश में Corona  (MP Corona) की तीसरी लहर शुरू हो चुकी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj) ने तीसरी लहर आने की संभावना को पूरी तरह से व्यक्त किया है। इसके साथ ही साथ पॉजिटिविटी रेट (positivity rate)  में बढ़ोतरी देखी जा रही है। प्रतिदिन 100 के आंकड़े में कोरोना के मामले सामने आ रहे हैं। कोरोनावायरस के डेल्टा वेरिएंट का खतरा एक बार फिर से बढ़ गया है। इसी बीच दतिया के कलेक्टर (datia collector) की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव आ गई है।

दरअसल सोमवार कोई रिपोर्ट में दतिया कलेक्टर संजय कुमार सिंह कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उनकी बेटी बीते कुछ दिनों पहले दिल्ली से लौट कर आई थी। रविवार को उनके सैंपल कलेक्ट किए गए थे। जिसके बाद कलेक्टर के अलावा उनके परिवार के चार सदस्य कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।

Read More :  MP College : UG-PG परीक्षा पर बड़ी अपडेट, लाखों छात्रों को मिलेगा लाभ

रविवार को कलेक्टर की बेटी की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। जिसके बाद कलेक्टर सहित परिवार के सभी सदस्यों ने जांच कराई थी। सोमवार को रिपोर्ट में दतिया कलेक्टर सहित उनकी पत्नी भाई और दो बहनोई की भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। प्रदेश में Corona का आंकड़ा एक बार फिर से डर आने लगा है। दतिया जिले में 13 नए पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई है। इसके अलावा जबलपुर, ग्वालियर, छतरपुर सहित राजधानी भोपाल और इंदौर में तेजी से संक्रमित मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी देखी जा रही है।

वहीं सोमवार को ग्वालियर में 22 संक्रमित मरीजों की पुष्टि हुई है। इसके अलावा जबलपुर में 22 कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं। सोमवार को कोरोना आंकड़े की बात करें तो 200 से अधिक मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। 3 जनवरी को मध्यप्रदेश में केवल 110 मामले इंदौर में ही देखने को मिले हैं। रविवार को जहां आंकड़ा 151 था। वहीं सोमवार को तेजी से मरीजों में बढ़ोतरी देखी गई है। इसके साथ ही प्रदेश में संक्रमित दर जहां 0.30 फीसद पहुंच गया। वहीं रिकवरी रेट घट कर 98 प्रतिशत रह गई है। नाइट कर्फ्यू के बावजूद बढ़ रहे कोरोना केस को लेकर प्रदेश सरकार द्वारा लोगों से सावधानी की अपील की जा रही है।

इससे पहले मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक आयोजित की गई थी। जिसमें तीसरी लड़ाई से बचने की संभावना की पूरी तैयारी के साथ ही होम आइसोलेशन और कोरोना किट की सुविधा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए थे। इसके साथ ही साथ कोरोना उपचार के लिए निजी अस्पतालों के अनुबंध को भी है कि 31 मार्च 2022 तक बढ़ा दिया गया था।