प्रशासन ने की डेरियों पर छापामार कार्रवाई, अमानक दूध और घी के सेंपल लिए

सेवढ़ा दतिया, राहुल ठाकुर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तथा प्रदेश शासन की मंशा अनुसार चलाए जा रहे एंटी माफिया एवं शुद्ध का युद्ध अभियान के तहत सेवड़ा एसडीएम ने जिला खाद्य निरीक्षक के साथ सेवड़ा विधानसभा क्षेत्र के ग्राम लांच में दो डेरियों पर छापामार कार्रवाई की। इस छापामार कार्रवाई में अमानक स्तर पर तैयार किए जा रहे दूध और घी भारी मात्रा में बरामद किया है तथा इसके सैंपल लेकर पुलिस थाना को कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं।

ये भी देखिये- अमानक पान मसाल विक्रय करने के मामले में 2.52 लाख का जुर्माना

जानकारी के अनुसार सेवड़ा एसडीएम द्वारा इंदरगढ़ क्षेत्र में गुरुवार की दोपहर एंटी भू-माफिया अभियान चलाया जा रहा था। जिसके तहत सरकारी जमीन पर अवैध रूप से बनी दुकानों को नेस्तनाबूद किया गया। इसके पश्चात उन्होंने ग्राम लांच की तरफ रुख किया तो जानकारी मिली कि यहां पर अवैध रूप से दो डेरिया संचालित की जा रही हैं। जिसमें अवैध रूप से अमानक स्तर पर दूध और घी तैयार किया जा रहा है जो बाजार में सप्लाई किया जा कर लोगो तक पहुंचाया जा रहा है तथा सेहत से खिलवाड़ किया जा रहा है। इसके बादएसडीएम अनुराग निगवाल ने खाद निरीक्षक दिनेश नीम के साथ एवं पुलिस बल के साथ ग्राम लांच में पहुंचकर छापामार कार्रवाई की।

डेरी पर पहुंचकर सबसे पहले बबलू जाटव की डेरी पर पहुंचे, जहां से कार्रवाई की जा रही टीम के द्वारा केमिकल, पाम ऑयल, रिफाइंड ऑयल, एवं सफोलाइट, दूध बनाने की सामग्री जप्त की गई तथा दूध का सैंपल लिया गया। इसी के साथ सीताराम सिहारे के डेरी पर छापामार कार्रवाई करते हुए यहां से 150 किलो ग्राम घी बरामद किया गया। जिस का सैंपल लिया गया तथा दोनों डेरी संचालक से घी और दूध बनाने के प्रमाण मांगे गए जिनके पास से किसी प्रकार की अनुमति प्रमाण पत्र नहीं दिखा पाये। एसडीएम ने दोनों डेयरी संचालकों पर कार्रवाई करते हुए इंदरगढ़ पुलिस को एफ आई आर दर्ज किए जाने के निर्देश दिए हैं। एसडीएम द्वारा खाद्य विभाग के साथ की गई छापामार कार्रवाई से इंदरगढ़ ग्रामीण क्षेत्रों में हड़कंप मच गया। जिससे अमानक स्तर पर खाद सामग्री तैयार किए जा रहे माफियाओं में भय की स्थित दिखाई पड़ रही है। उल्लेखनीय है कि दतिया जिले के ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र में खाद्य सामग्री तैयार किए जाने वाले माफियाओ द्वारा बड़े स्तर पर डेरी संचालित करते हुए खाद्य वस्तुएं बनाई जा रही हैं। इस कार्यवाही से साफ अंदाजा लगाया जा सकता है।