दतिया, सत्येन्द्र रावत। ग्राम अगोरा में खुलेआम अन्न उत्सव की धज्जियां उड़ी। एक बजे तक यहां केंद्र पर ताला पड़ा रहा। सेवा सहकारी समिति दुर्गापुर के राशन वितरण केंद्र अगोरा पर आज सुबह से ताला लगा रहा और सेल्समैन दोपहर 1 बजे के बाद पहुंचा। यहां ग्रामीण सैकड़ों की संख्या में राशन वितरण केंद्र पर अन्न उत्सव मनाए जाने का इंतजार करते रहे।

ग्राम पंचायत अगोरा सरपंच हरीराम अहिरवार ने बताया कि कलेक्टर महोदय के निर्देशानुसार सभी हितग्राहियों को आज उपस्थित होने की सूचना दी गई। किंतु आज सुबह से अगोरा में केंद्र नहीं खुला। वहीं सचिव ग्राम पंचायत सोवरन सेन ने बताया कि मध्यप्रदेश सरकार के निर्देशानुसार आज अन्न उत्सव के तहत पात्र हितग्राहियों को राशन सामग्री निर्धारित मात्रा में मिलना चाहिए थी लेकिन दुकान संचालक दोपहर तक तक नहीं आए, जबकि हितग्राही सुबह 9 बजे से इंतजार में बैठे रहे।

वहीं ग्रामीणों का कहना है कि अगोरा गांव में अन्न उत्सव नहीं मनाया जा रहा क्योंकि सेल्समेन दोपहर 1 बजे के बाद आया। सेल्समैन के आने के बाद जब उसने एक माह का राशन देने की बात कही तो ग्रामीण इस बात पर सहमत नहीं हुए। ग्रामीणों के अनुसार पिछले 4 माह का राशन नहीं बांटा गया, पहले वह भी उपलब्ध कराया जाए। जिसके बाद राशन विक्रेता और ग्रामीण आपस में पिछले राशन को लेकर उलझे रहे। हाल यह रहा कि दोपहर 2 बजे तक यहां ताला तक नहीं खोला गया, अन्न उत्सव मनाया जाना तो दूर की बात है।

वहीं सेल्समैन का कहना था कि तौल मशीन खराब हो गयी थी, साथ ही वो POS मशीन लाना भूल गये थे। 1 बजे के बाद आने पर हितग्राही दुकान नहीं खोलने दे रहे और एक साथ पिछले 4 माह का राशन मांग रहे हैं। जबकि स्टॉक केवल एक माह का है। कुछ हितग्राहियों के राशन कार्ड उनके पास रखे होना भी स्वीकार किया।

यह स्थिति जिला मुख्यालय से मात्र 5 किमी दूर स्थित अगोरा गांव की है तो अंदाज लगाया जा सकता है कि दूरस्थ अंचल में किस प्रकार के हालातों से गरीबों को गुजरना पड़ता होगा। गौरतलब है कि वरिष्ठ अधिकारियों तक सूचना पहुंचने के बाद भी कोई अधिकारी यहां नहीं आया।