अंतर्राज्यीय गिरोह पकड़ाया, 15 करोड़ के मोबाइल फोन जब्त

आंध्रप्रदेश पुलिस के साथ संयुक्त कार्रवाई में मिली बड़ी सफलता

देवास, अमिताभ शुक्ला। पुलिस ने करोड़ों रूपये के मोबाइल चोरी करने वाले अंतर्राज्यीय गिरोह के आरोपियों को पकड़ा हैं। इनके पास से 15 करोड़ से अधिक के mi कंपनी के मोबाइल जब्त किए गए हैं।

देवास पुलिस और आंध्रप्रदेश पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में एक बड़ी सफलता पुलिस को हासिल हुई है। इस मामले में पुलिस ने एक दर्जन से अधिक आरोपियों को नामजद किया है। इस गिरोहा का मास्टरमाइंड महाराष्ट्र का एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर है जिसका नाम राम गाड़े है। इस मुख्य आरोपी को मिलाकर गिरोह में कुल 12 लोग थे जिनमें से पुलिस ने 3 को गिरफ्तार किया है। इस गिरोह ने देवास में भी दो घटनाओं को अंजाम दिया था। जिले के टोंकखुर्द में इन्होने कंजर कटिंग करके मोबाइल लूटे थे। इस गिरोह को पकड़ने में आंध्रप्रदेश और महाराष्ट्र पुलिस का सााझा योगदान रहा। चोरी के मोबाइलों की रिकवरी इंदौर और पुणे से की गई है।इनके पास से 10 हजार से अधिक मोबाइल जब्त किए गए हैं साथ ही 2 ट्रक, 1 कार और 4 पहिया वाहन भी बरामद हुए हैं। इन दस हजार से अधिक मोबाइल की कीमत करीब 15 करोड़ रूपये बताई जा रही है।

आरोपी विभिन्न प्रदेशों में ट्रकों की कटिंग करके मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक आइटम लूटा करते थे। साथ ही उसके बाद उनका आईएमईआई नंबर बदलकर ग्रे मार्केट में बेच दिया करते थे। इस पूरे मामले में आंध्र प्रदेश पुलिस देवास में पिछले 1 महीने से डटी हुई थी। और देवास के टोंक खुर्द के पास स्थित कंजर डेरे पर भी लगातार दबिश दी गई जिसके बाद मामले के आरोपियों तक पुलिस पहुंच सकी। पुलिस को पुणे, आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले और देवास के हाईवे पर इस तरह की लूट की सूचनाएं मिली थी। पुलिस ने अपना जाल बिछाया और आरोपियों तक पहुंची जिसके बाद आरोपियों के पास से 10 हजार से मोबाइल जिनकी कीमत 15 करोड़ से अधिक है, बरामद किए गए। आरोपी राम गाड़े, अंकित झाँझा और रोहित झाला से पुलिस पूछताछ कर रही है। बड़ी बात यह है कि इन घटनाओं का मुख्य सरगना महाराष्ट्र का सॉफ्टवेयर इंजीनियर राम गाढ़े है, जो कि इस तरह के आरोपियों की मदद से मोबाइलों की चोरी करवाता था। अब इस बड़े खुलास के बाद देवास पुलिस अधीक्षक ने इस पूरी सफलता में लगी हुई टीम को भी अवार्ड देने की बात कही है।