करीब 2 लाख का गांजा बरामद, उज्जैन का तस्कर गिरफ्तार

देवास, सोमेश उपाध्याय।  अवैध कारोबारियों और मादक पदार्थ बेचने वालों के खिलाफ प्रदेश में जारी कार्रवाई के क्रम में देवास पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है पुलिस ने उज्जैन के एक तस्कर को गिरफ्तार कर उसके कब्जे से करीब दो लाख रुपये का गांजा  बरामद किया है।

देवास  पुलिस द्वारा अवैध मादक पदार्थो की तस्करी एवं विक्रय के विरुद्ध चलाये जा रहे विशेष अभियान के तहत्  सिविल लाइन थाना  पुलिस को अवैध मादक पदार्थ तस्कर को  गिरफ्तार करने में सफलता मिली है।  जानकारी के अनुसार पुलिस ने 7 किलो 500 ग्राम अवैध गांजा सहित उज्जैन के एक  तस्कर को  गिरफ्तार किया है। एसपी डॉ शिवदयाल सिंह, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक जगदीश डाबर नगर पुलिस अधीक्षक विवेक सिंह चौहान के मार्गदर्शन में सिविल लाइन  थाना प्रभारी संजय सिह के निर्देशन में थाना सिविल लाइन पुलिस टीम ने  07 किलो 500 ग्राम  अवैध गांजे के साथ आरोपी अरकान मंसूरी को गिरफ्तार किया है।  अरकान उज्जैन का रहने वाला है। बरामद गांजे की कीमत करीब 01 लाख 87 हजार रुपये बताई गई है।  पुलिस ने  घटना में प्रयुक्त वाहन सुजूकी एक्सिस कीमत लगभग 60 हजार रुपये भी बरामद की है।

पुलिस ने बताया कि रविवार की रात्रि में मुखबिर द्वारा सूचना मिली कि एक व्यक्ति बगैर नंबर की सिल्वर रंग की सुजुकी एक्सिस स्कूटर पर भोपाल बाईपास रोड से होकर उज्जैन की ओर अवैध रूप से मादक पदार्थ गांजा लेकर जा रहा है । थाना प्रभारी संजय सिंह के निर्देशन में नियत स्थान पर पुलिस थाना सिविल लाइन की टीम द्वारा रवाना होकर उज्जैन रोड पर मायादेवी कॉलेज के सामने पहुंचकर घेराबंदी की गई जो कुछ देर में एक बगैर नंबर की सिल्वर रंग की सुजुकी एक्सिस गाड़ी पर एक व्यक्ति आते दिखा । जिसे घेराबंदी कर पुलिस टीम द्वारा पकड़ा गया । उस व्यक्ति का नाम पता पूछा तो उसने अपना नाम अरकान मंसूरी पिता शाकिर मंसूरी जाति पिंजारा उम्र 20 वर्ष निवासी हब्बू मामू का मकान , गली नंबर -05 लोहे का पुल उज्जैन का  होना बताया । जिसकी गाड़ी में आगे एक प्लास्टिक की बोरी में रखा अवैध मादक पदार्थ गांजा जिसका वजन 07 किलो 500 ग्राम कीमती करीब 01 लाख 87 हजार का मिला जिसे जब्त कर  पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया और मामला पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया है । तस्कर द्वारा उक्त मादक पदार्थ गांजा कहां से लाया गया था एवं किसे देने जा रहा था एवं उसके इस कार्य में सहयोगी अन्य साथी के बारे में पूछताछ की जा रही है ।