MP News : भावुक हुए दीपक जोशी, शिवराज को बताया जीरो, कल होगा कांग्रेस में प्रवेश

Amit Sengar
Published on -

MP News : भाजपा के दिग्गज नेता व पूर्व मंत्री दीपक जोशी के कांग्रेस में शामिल होने की खबर के बाद से ही देवास जिले की बागली विधानसभा में सियासी हलचल तेज हो गई। पूर्व सीएम कैलाश जोशी की परंपरागत सीट बागली में जोशी परिवार का खासा वर्चस्व रहा है। जोशी स्वयं 8 बार व दीपक जोशी 1 बार बागली से विधायक निर्वाचित वही 2008,13 व 18 के चुनावों में भी दीपक जोशी ने अपने समर्थक कार्यकर्ताओं को ही विधानसभा पहुंचाया है। बागली में भाजपा के सभी सियासी फैसलो में दीपक जोशी की प्रमुख भूमिका रहती है। आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों में जोशी की खासी पकड़ मानी जाती है। आज शाम को जोशी के देवास स्थित निवास पर बागली व हाटपिपल्या विधानसभा क्षेत्र के समर्थको का तांता लगना शुरू हो गया।प्राप्त जानकारी के अनुसार दीपक जोशी कल सुबह 8.30 बजे देवास निवास से भोपाल रवाना होंगे।सबसे पहले प्रातः 10 बजे अपने पिता के बंगले बी 74 जाएंगे। वहां से अपने पिता व पूर्व सीएम स्व.कैलाश जोशी की तस्वीर लेकर 11 बजे पीसीसी चीफ कमलनाथ के निवास पर जा कर कांग्रेस का हाथ थामेंगे। पार्टी ज्वाइन करने के बाद कांग्रेस दफ्तर के लिए रवाना होंगे। जहां पूर्व सीएम स्व. कैलाश जोशी की तस्वीर साथ रखेंगे।

भावुक हुए दीपक जोशी, शिवराज को बताया जीरो

आज शाम अपने देवास स्थित निवास पर मीडिया से बात करते हुए पूर्व मंत्री दीपक जोशी भावुक नजर आए। जोशी ने कहा कि यह लड़ाई मेरी नहीं मेरे पिता के समान कि है। मेरे पिता के अपमान को मैं कभी नहीं सह सकता।भावुकता में जोशी ने कहा कि मेरे पिता ईमानदारी की राजनीति करते थे,में भी उसी राह पर बड़ा और बागली में भ्रष्टाचार का बड़ा मामला उजागर किया,मेरे पिता उदयनगर व कांटा फोड़ की जिन दुकानों पर बैठते थे, उन दुकानों को तोड़ दिया गया। जोशी ने सीएम शिवराज के लिए कहा कि बॉस ताली लेते है,तो गाली भी लेना चाहिए। उन्होंने बताया कि हमीदिया कॉलेज में जब वे छात्र राजनीति करते थे तब सीएम शिवराज संगठन में थे। यानी वे जीरो और में हीरो था।

मेरे पिता के स्मारक को खंडर बना दिया

जोशी ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने लिए आलीशान आवास बनाएं, पूर्व सीएम रहते उनका घर उन्हे छोटा लग रहा था, तब उन्होंने देवबंद सांसद नंदकुमार सिंह चौहान के घर को तोड़ कर अपना घर बड़ा किया। लेकिन मेरे पिता के स्मारक को आज तक पूरा नहीं किया। लोग उस स्मारक को जोशी जी के खंडहर के नाम से जाने लगे है। इसीलिए मैंने सही किया पूज्य पिताजी की अंत्येष्टि के लिए 3 मिनट में जमीन अलाट करने वाले कमलनाथ जी के साथ ही आगे की राह आगे बढ़ाऊगा।

नही मानी दिग्गजों की बात,सादगी से होगा कांग्रेस में प्रवेश

बीती रात इंदौर में प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव ने भी दीपक जोशी से लंबी चर्चा की। लेकिन जोशी ने अपना फैसला नहीं बदला। आज मीडिया को जोशी ने बताया कि उन्हें प्रदेश के साथ राष्ट्रीय नेताओं ने भी संपर्क किया था। लेकिन वे अपने फैसले पर अडिग है। जोशी ने कहा कि वे जमीन की राजनीति करते हैं बैनर पोस्टर कि राजनीति से बहुत दूर है। इसलिए सादगी से ही अपने चुनिंदा समर्थकों के साथ कांग्रेस ज्वाइन करेंगे।

देवास जिले की कमियों को दूर करूंगा

जोशी ने कहा कि वे कांग्रेस में सांसद या विधायक बनने के लिए नहीं जा रहे हैं। ना ही स्वयं सम्मान पाने के लिए जा रहे हैं, वे अपने पिता की विरासत को सहेजने के लिए कांग्रेस में जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि देवास उनके पिता के कारण राजनीति में शुचिता का प्रतीक है। देवास जिले की कमियों को दूर करने का पूरा प्रयास करुंगा।

संगठन के लोग नहीं करते थे नमस्कार

जोशी ने भाजपा संगठन पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें पार्टी की बैठकों में ही नहीं बुलाया था। यदि वे किसी बैठक में पहुंचते थे,तो नेता नमस्कार करने में भी संकोच करते थे। इसलिए ऐसे स्थान पर मेरा रहना उचित नहीं था।
देवास/बागली से सोमेश उपाध्याय की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News