नहीं रुक रहा वन्य प्राणियों की मौत का सिलसिला, देवास के जंगल में फिर मिली तेंदुए की लाश

हॉटपिपल्या के टप्पा क्षेत्र के पास स्थित ग्राम भीलूखेड़ी के समीप जंगल मे धावड़ा के पेड़ की शाखा में एक मादा तेंदुए का शव फंसा हुआ मिला। जिसके बाद वन अमला मोके पर पहुंचा और जांच की।

देवास, सोमेश उपाध्याय। देवास (Dewas) जिले के जंगल (Forest) में एक बार फिर मादा तेंदुए (Female leopard) की मौत का मामला सामने आया है। हॉटपिपल्या के टप्पा क्षेत्र के पास स्थित ग्राम भीलूखेड़ी के समीप जंगल मे धावड़ा के पेड़ की शाखा में एक मादा तेंदुए का शव फंसा हुआ मिला। जिसके बाद वन अमला मोके पर पहुंचा और जांच की।

यह भी पढ़ें….छतरपुर में एसडीएम, टीआई समेत 132 नए संक्रमित मिले, एक्टिव केस हुए 600 पार

प्रथम दृष्टया से देखने पर तो तेंदुए की मौत पेड़ में फंसने के कारण पेट दबने से होना बताई जा रही है, परन्तु पूरी जानकारी पोस्टमार्टम (Post mortem) के बाद ही पता लगेंगी। फिलहाल वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारी जांच में जुटे है। तेंदुए की मौत की जानकारी लगते ही आस-पास के ग्रामीण पहुंच गए थे। देवास जिले में पूर्व में झिकड़ाखेड़ा बीट के हीरापुर गांव के पास स्थित जंगल में बागली अनुभाग के करनावद के पास भी तेंदुए का शव मिला था। मृत मादा तेंदुए के शरीर के किसी भी अंग पर चोट के कोई निशान नहीं हैं। एक अनुमान के मुताबिक जिले में 50 से अधिक तेंदुए विचरण कर रहे हैं। हालांकि दिसंबर 2019 से लेकर अब तक देवास सब डिवीजन में अलग-अलग कारणों से 5 से अधिक तेंदुओं की मृत्यु हुई है।

यह भी पढ़ें….शिवपुरी : सही समय पर इलाज ना मिलने के चलते मरीज की मौत