पूर्व विधायक डॉ तेज सिंह सैंधव के बगावती सुर,उपचुनाव से पहले मुश्किल में पड़ी बीजेपी

पूर्व विधायक डॉ तेज सिंह सैंधव ने कहा कि अगर नहीं मिला टिकट तो लड़ेंगे निर्दलीय चुनाव। 19 महीने जेल में रह कर यातनाए सही है,अन्याय के विरुद्ध बोलूंगा। कमलनाथ सरकार गिराने को पूर्व विधायक ने बताया गलत कहा कि जनता ने मौका दिया था, पांच वर्ष चलना थी

देवास/हॉटपिपल्या, सोमेश उपाध्याय। मध्य प्रदेश में 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव (byelection on 28seats in madhya pradesh) में देवास जिले की हॉटपिपल्या  विधानसभा क्षेत्र(Hatpipalya Assembly Constituency) भी शामिल है।आज चुनाव आयोग (Election commission) द्वारा तारीखों के ऐलान के साथ ही बीजेपी के पूर्व विधायक (Former BJP MLA) ने ही बीजेपी की मुसीबत बढ़ा दी है। वो यहां से अपनी पार्टी के खिलाफ उतरने के लिए जंग का ऐलान कर रहे हैं। पूर्व विधायक डॉ तेज सिंह सैंधव (former MLA Dr. Tej Singh Sandhav) तीन बार भाजपा से विधायक रहे है। सैंधव ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ (MP Breaking news) से विशेष चर्चा में कहा कि प्रजातंत्र में यदि किसी दल को जनता बहुमत देती है तो उसे मौका दिया जाना चाहिए। मैं पार्टी से टिकट की मांग करूंगा यदि टिकट नहीं मिलता है तो निर्दलीय चुनाव (Independent election) लड़ूंगा।

 

एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ से की खास चर्चा

सैंधव ने बताया कि जो लोग पार्टी की नीति ही नहीं जानते उन्हे टिकट देना गलत है। हमने जनसंघ के समय से पार्टी में कार्य किया है। 19 माह तक जेल में रह कर यातनाएं सही है। हम यदि गलत का विरोध नहीं करेंगे तो यह भी अन्याय होगा। सैंधव ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ को यह भी बताया कि वे चार बार विधायक के साथ ही कई पदों पर रह चुके हैं। उनकी मंशा विधायक बनना नहीं बल्कि गलत का विरोध करना है। सैंधव का कहना है कि पार्टि उन्हे नहीं तो किसी अन्य पार्टी से जुड़े व्यक्ति को टिकट दे। सैंधव के बगावती सुर से उपचुनाव के पहले ही सियासत जरूर गरमागई है!

छह बार भाजपा और चार बार कांग्रेस जीती

भारतीय जनसंघ से अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत करने वाले सैंधव पूर्व सीएम स्वर्गीय कैलाश जोशी के राजनीतिक शिष्य है। सेंधव ने 1977 में जनता पार्टी के टिकट पर पहली बार चुनाव लड़े और जीते। 1980 कि कांग्रेस लहर में भी यहां से तेज सिंह सेंधव ने ही जीत दर्ज की। 1985 में कांग्रेस ने ठा.राजेंद्र सिंह बघेल को टिकट दिया जो पर्याप्त अंतर से चुनाव जीते। 1990 और 1998 में फिर से तेज सिंह सेंधव ने जीत हासिल की। जबकि 1993 और 2003 के विधानसभा चुनाव में राजेंद्र सिंह बघेल ने भाजपा को हराया। 2008 और 2013 में पूर्व मंत्री दीपक जोशी यहां से जीते। जबकि 2018 में कांग्रेस के मनोज चौधरी ने भाजपा के दीपक जोशी को पराजित किया।अब उपचुनाव होना है और चौधरी भाजपा में शामिल हो चुके है।

MP Breaking News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here