बागली, सोमेश उपाध्याय

देवास जिले (dewas) में आज सुबह से चल रही बूंदाबांदी के बाद दोपहर में कुछ देर के लिए झमाझम बारिश (rain) हुई। उसके बाद रुक रुक कर बारिश व बूंदाबांदी का सिलसिला जारी है। बारिश से अंचल भर के नदी नाले उफान पर आ गए हैं। बागली (bagli) तहसील मुख्यालय को जोड़ने वाली गुनेरा-गुनेरी पुलिया की रपट पर पानी भरा होने से आवाजाही बन्द है। गौरतलब है कि लंबे अंतराल के बाद इस पुलिया का निर्माण किया जा रहा है। पुल का कार्य अधूरा होने से अस्थाई पुलिया बनाई गई है। वहीं पिछले कई दिनों से चली आ रही बारिश न होने से लोग खासतौर से किसानों में निराशा छाई हुई थी। ऐसे में पिछले दो दिनों से हुई यह बारिश सभी के लिए राहत और फसलों के लिए खुशहाली लेकर आई है।

जिले के नेमावर में नर्मदा (narmada) के ऊपरी कैचमेंट क्षेत्र में चल रही भारी बरसात तथा तवा डेम की नहरों से पानी छोड़े जाने के चलते नेमावर नर्मदा का जल स्तर समुद्र तल से 875 फीट पर पहुंच रहा है। अभी लगातार बरसात के चलते नर्मदा का जल स्तर और भी बढ़ने का अनुमान है। हालांकि अभी नर्मदा का जल स्तर 875 है, जो खतरे के निशान से करीब 10 फीट नीचे है। इसके साथ नर्मदा की सहायक नदी जामनेर, बागड़ी, दतुनी, गोनी, शिप नदी जो नर्मदा में मिलती है, उनमें पर्याप्त पानी नहीं है, जिससे खतरे जैसी स्थिति नहीं है। एहतियात के तौर पर स्थानीय नगर परिषद के सीएमओ हरिओम कचोले ने नर्मदा घाट पर कर्मचारियों की तैनाती कर नर्मदा के बढ़ते जल स्तर पर सतत निगरानी के निर्देश दिए हैं। प्रभावित होने वाली निचले क्षेत्रकी बस्तियों में नर्मदा के बढ़ते जल स्तर की मुनादी भी करवा दी गई है।