देवास, सोमेश उपाध्याय। आबूधाबी में खेले जा रहे आईपीएल क्रिकेट मैच पर नीमच के सटोरिये करोड़ों के दांव लगवा रहे थे। मुखबिर से ये खबर मिलने पर एसटीएफ उज्जैन की टीम ने देवास जिले के सोनकच्छ में इंदौर-भोपाल हाईवे स्थित पप्पू एण्ड पप्पू रिसोर्ट से शुक्रवार-शनिवार दरमियानी रात दबिश देकर 6 सटोरियों को धर दबोचा। साथ ही 26 लाइन का हाईटेक ब्रीफकेस जंक्शन, 45 मोबाइल और 2 लैपटाॅप जब्त किये हैं एवं एक लाख पाँच हजार नकदी समेत दो कार भी बरामद की है।

मामले में एसटीएफ उपनिरीक्षक जेएस परमार व उनकी टीम द्वारा पकड़े गए सभी सटोरियों को शनिवार को न्यायालय में पेश किया जहाँ एसटीएफ पुलिस की पूछताछ की मांग को लेकर प्रथम श्रेणी न्यायाधीश श्रीमती रूचितासिंह गुर्जर ने दो दिन का पीआर दिया। एसटीएफ उप-निरीक्षक जेएस परमार ने बताया कि पकड़े गए सभी सटोरिये नीमच निवासी है। इनमें रितेश उर्फ कालू पिता रमणलाल जैन, प्रशांत उर्फ गुल्लू पिता रमेशचन्द्र जसवानी, सुनील उर्फ चिक्की पिता गोपाल गोयल, इसरार पिता निशार अली, जाहिद पिता मोहम्मद शहीद कादरी, ब्रजेश उर्फ बन्टू पिता रमणलाल जैन को गिरफ्तार किया। उक्त मामले में रिसोर्ट संचालक से भी पूछताछ जारी है व रिसोर्ट में ठहरने वाले मुसाफिरों के आने-जाने का रजिस्टर भी जब्त है। पकड़े गए सटोरिये लैपटाॅप पर पेन ड्राईव से आरएसीइ साॅफ्टवेयर के माध्यम से सट्टा लगाने वाले लोगों के एकाउंट में लेनदेन का हिसाब करते थे। 26 लाईन का हाईटेक ब्रीफकेस भी संभवतः बड़े शहर के सटोरियों की मदद से बनवाया गया है जिसमें एक साथ एक बार में 26 लोग कनेक्ट होकर बात कर सट्टा लगा सकते हैं। एसटीएफ टीम में उप-निरीक्षक परमार के साथ सउनि. देवेन्द्र कुशवाह, आरक्षक सुनिल झा, आरक्षक पुष्पेन्द्र यादव, आरक्षक राजपालसिंह यादव, आरक्षक संजय शुक्ला, आरक्षक राजेन्द्र परिहार मौजूद थे।