देवास आकर बोले थे मुखर्जी- माँ चामुंडा की नगरी में आकर अभिभूत हूँ

देवास, सोमेश उपाध्याय। पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी के निधन के बाद देश राजनीतिक गलियारों सहित आमजनों में शौक व्याप्त है।लोग मुखर्जी को एक ईमानदार,सादगीप्रिय,राष्ट्रवादी और कुशल राजनेता के रूप में याद कर रहे है!मुखर्जी की यादे देवास से भी जुड़ी हुई है।मुखर्जी 7 जनवरी 2012 को देवास आए थे।तब वे केंद्र की मनमोहन सरकार में वित्त मंत्री थे।वित्त मंत्री रहते मुखर्जी देवास के बैंक नोट प्रेस में आधुनिक मशीनों के लोकार्पण कार्यक्रम में आए थे।

तब मुखर्जी ने 800 करोड़ की लागत से स्विटजरलैंड से आयातित नई मशीनो का लोकार्पण किया था!इस मशीन से नोट को बनाने की प्रक्त्रिया एक ही जगह पूरी करती हैं।कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुखर्जी ने कहा था कि देवास में आकर उन्हे मध्यप्रदेश की संस्कृति और विरासत को समझने का अवसर मिला है।उन्होंने कहा था कि माँ चामुंडा की नगरी में आकर धन्य हो गया हु।तब मुखर्जी के साथ सीएम शिवराज सीह चौहान,दिवगन्त मंत्री तुकोजीराव पँवार सहित अन्य कांग्रेसी नेता मौजूद थे।