देवास की प्रसिद्ध माता तुलजा और चामुंडा टेकरी पर होगा नवीनीकरण, बनेगा चांदी का सिंहासन

देवास,अमिताभ शुक्ला

देवास की प्रसिद्ध माता तुलजा और चामुंडा टेकरी पर नवीनीकरण का कार्य होगा। बड़ी माता मंदिर तुलजा भवानी माता मंदिर पर चांदी का सिहासन और गर्भग्रह भी बनाया जाएगा  जिसके लिए 500 किलो के लगभग चांदी होगी इस्तेमाल होगी। श्रद्धालुओं द्वारा चढ़ाए गए चांदी के जेवरात और शासकीय देवस्थान प्रबंध समिति के माध्यम ये निर्माण होगा। देवास विधायक गायत्री राजे पवार ने बनने वाले मॉडल का अवलोकन किया और कहा कि माता टेकरी पर और भी विकास कार्य कराए जाएंगे।

शिर्डी के साईं नाथ मंदिर, उज्जैन के महाकाल और इंदौर के खजराना मंदिर की तर्ज पर अब देवास की माता तुलजा और चामुंडा टेकरी पर भी चांदी का सिहासन और चांदी का गर्भगृह बना हुआ जल्द ही नजर आएगा। यहां पर भी लगभग 500 किलो से अधिक चांदी से इंदौर के कलाकारों द्वारा गर्भ ग्रह को संवारने और चांदी से निर्मित होने वाले सिहासन का काम जल्द ही शुरू होने वाला है। प्रथम चरण में काम बड़ी माता मंदिर जाने की तुलजा भवानी माता मंदिर में किया जाएगा जहां पर चांदी का इस्तेमाल करके गर्भ ग्रह और सिहासन बनाया जाएगा। इसी के साथ माता तुलजा और चामुंडा टेकरी के सौंदर्यीकरण को लेकर भी कई काम कराए जाएंगे। देवास की विधायक गायत्री राजे पवार ने माता तुलजा भवानी मंदिर में बनने वाले मॉडल का अवलोकन भी किया और कलाकारों से मुलाकात भी की। इस दौरान देवास के विधायक गायत्री राजे पवार ने कहा कि माता टेकरी के सौंदर्यीकरण में एक नया अध्याय होगा और माता तुलजा भवानी का सिहासन और मंदिर का मुख्य द्वार और भी ज्यादा सुंदर नजर आएगा। वही उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं की सुविधाओं के लिए और भी काम जारी हैं, जो आने वाले समय में दिखाई देंगे और नवरात्र के पहले पूर्ण कर लिए जाएंगे।

गौरतलब है कि देवास की प्रसिद्ध माता तुलजा और चामुंडा टेकरी पर शारदीय नवरात्र नवरात्र के दौरान लाखों की संख्या में भक्त देश विदेश से मां के भक्तों दर्शनों के लिए आते हैं, साथ ही वर्ष भर भी माता तुलजा और चामुंडा के दरबार में भक्तों का तांता लगा रहता है। माता चामुंडा मंदिर के सिंहासन और गर्भ गृह का नवीनीकरण अगले चरण में पूरा होगा ।