लॉकडाउन के दौरान पुलिस के लाठीचार्ज से बुजुर्ग की मौत, विधायक ने की जांच की मांग

धार/मोहम्मद अंसार

धार में एक राशन की दुकान में मची भगदड़ के बाद पुलिस के लाठीचार्ज से एक व्यक्ति की मौत हो गई। घटना धामनोद के गुजरी इलाके की है, जहां लॉक डाउन के द्वारा 2 घंटे की छूट दी जाती है। उसी दौरान 60 वर्षीय व्यक्ति दीपू बाजार में सामान खरीदने के लिए खड़े थे। बताया जा रहा है कि दुकानें बंद होने के दौरान भगदड़ का माहौल होने के बाद पुलिस ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिये लोगों को खदेड़ने के लिये बल प्रयोग कर लाठियां चलाई और इसी दौरान वो व्यक्ति गिर पड़ा और उसकी मौत हो गई। वहां मौजूद पुलिस बल में एसडीओपी, टीआई सहित अन्य पुलिसकर्मी शमिल थे।

इस मामले में मृतक के बेटे का कहना है कि उनके पिता के शरीर पर लाठियों के निशान है और वो न तो बीमार थे न ही उन्हें कोई और दिक्कत थी, इसलिये मृत्यु की वजह पुलिस की मार ही है। लेकिन पुलिस का कहना है कि अभी किसी निर्णय पर नहीं पहुंचा जा सकता और जांच के बाद ही कुछ कहा जाएगा। एसपी आदित्य प्रताप सिंह का कहना है कि पुलिस का काम है लॉकडाउन के दौरान सोशल डिस्टेंस का पालन कराना और वो अपना काम कर रही थी। उस व्यक्ति की मौत का क्या कारण है ये जांच के बाद ही पता चल पाएगा। वहीं आदिवासी विधायक पाची लाल मीणा ने पुलिस पर बर्बरता पूर्वक पिटाई का आरोप लगाते हुए मामले की जांच और दोषी पुलिसवालों पर कार्रवाई की मांग की है।