7 साल के बच्चे को उठा ले गया तेंदुआ, बचाने के लिए दौड़ा बेबस पिता और फिर

धार । राजेश डाबी ।
जिले के अमझेरा के समीप मनावर मार्ग से लगने वाले जंगली क्षेत्र में बीती रात तेंदुए ने खेत पर सो रहे परिवार के एक 7 वर्षीय बालक को अपना शिकार बनाया जिसमे आनन्द नामक बालक की मौत हो गई ।माना जा रहा है कि यह तेंदुआ अब आदमखोर हो सकता है, इसलिए इसे पकड़ने के लिए विशेष रूप से वन विभाग ने तैयारियां शुरू कर दी है। वन विभाग का अमला ग्राम भेरूघाट पहुंच चुका है और उसने विशेष रूप से तेंदुए को पकड़ने की कवायद शुरू की है।

मिली पूरी जानकारी के अनुसार, ग्राम पिपलिया के रहने वाले। मजराओ खराड़ी अपनी पत्नी एवं चार बच्चों के साथ खेत पर फसल की रखवाली हेतु सो रहे थे , इसी दौरान करीब 10 बजे रात्रि को एक तेंदुआ आनंद नाम के 7 वर्षीय बालक को उठाकर 200 फीट दूर पहाड़ी के नीचे खोदरे में ले गया और उसे अपना शिकार बना लिया । इस दौरान बालक की चीखने चिल्लाने की आवाज सुन उसका पिता बचाने के लिए दौड़ा , लेकिन उसे बचा नहीं पाया , बाद में ग्रामीणों को इकट्ठा किया गया एवं घटनास्थल पहुंच व जैसे तैसे तेंदुए को भगाया और मृत हो चुके अपने बच्चे का शव कब्जे में लेकर घर लाए , वहीं घटना की सूचना रात में ही वन विभाग को दे दी गई थी।

वन विभाग का अमला मौके पर पहुंचा एवं बालक के शव को निरीक्षण कर उसे अमझेरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है ।वही अमझेरा क्षेत्र के वन विभाग अधिकारी ने मामले में जांच की बात कही है साथ ही उक्त तेंदुए के पैरो के निशान के अनुसार तेंदुए को तलाश कीये जाने की बात कही है , पूरा घटनाक्रम अमझेरा क्षेत्र के समीप स्थित जंगल का है , जहां बीती रात अपने खेत पर फसल की रखवाली के सोए परिवार में एक 7 वर्षीय बालक को तेंदुए ने अपना शिकार बनाया जिसमें बालक की मौत हो गई थी , वही वनविभाग के वरिष्ठ अधिकारी भी अब मोके पर पहुच गये है।वहीं वन विभाग ने पीड़ित परिवार को ₹400000 मुआवजा देने की बात कही।

7 साल के बच्चे को उठा ले गया तेंदुआ, बचाने के लिए दौड़ा बेबस पिता और फिर