उमरिया कांड के बाद गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के कार्यकर्ताओं में आक्रोश, राज्यपाल के नाम सौंपा कलेक्टर को ज्ञापन

Amit Sengar
Published on -

Dindori News : डिंडोरी जिला मुख्यालय में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के प्रदेश स्तरीय पदाधिकारी तथा जिला स्तर के नेताओं के द्वारा उमरिया कांड के विरोध में राज्यपाल के नाम ज्ञापन जिला कलेक्टर को सौंपा गया है। ज्ञापन में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने कहा है कि मध्यप्रदेश गोंडवाना गणतंत्र पार्टी उमरिया जिले में अपने लोकतांत्रिक और संवैधानिक अधिकार से शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन कर मध्यप्रदेश सरकार की भ्रष्ट मंत्री के खिलाफ, उनके भ्रष्टाचार के खिलाफ जांच की मांग कर रहे गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के कार्यकताओं पदाधिकारी और महिलाओं तथा बच्चों पर पुलिस विभाग के द्वारा बर्बर लाठी चार्ज कर आंदोलन को कुचलने की कोशिश को गई है।

गोंगपा ने की घोर निन्दा

पुलिस ने एक भ्रष्ट सरकार की भ्रष्ट मंत्री को बचाने का घिनौना प्रयास किया गया है पुलिस के इस रवैए की गोंगपा घोर निन्दा करती हैं। वहीं बर्बर लाठी चार्ज से गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के अनेक पदाधिकारी, कार्यकर्ता सहित महिलाएं एवं बच्चे घायल हुए है। जिसकी न्यायिक जांच की मांग तथा घटना के बाद पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के कार्यकर्ताओं को बिना शर्त रिहा करने की मांग गोंडवाना गणतंत्र ‘पार्टी आपसे करती है। ज्ञापन में गोंगपा ने यह भी कहा कि सरकार और पुलिस की ऐसी कार्रवाइयों से गोंडवाना गणतंत्र पार्टी भयभीत होने वाली नहीं है उसके हौसले और बुलंद हुए हैं और हमारी भ्रष्टाचार के खिलाफ यह लड़ाई जारी रहेगी।

ज्ञापन सौंपकर घटना की निष्पक्ष जांच कराकर कानून का दुरुपयोग करने वाले अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने एवम मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में भेजने की मांग गोंगपां ने की है। इस दौरान कलेक्ट्रेट परिसर में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया था कलेक्टर कार्यालय के मुख्य गेट को बंद कर दिया गया था। जिला मुख्यालय के सभी प्रवेश द्वारों पर कड़ी नजर रखी गई थी ताकि उमरिया कांड की पुनरावृति को रोका जा सके।
डिंडोरी से प्रकाश मिश्रा की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News