Dindori News: मोबाइल टावर लगाने के नाम पर लाखों रूपए की हुई धोखाधड़ी, पुलिस ने हरियाणा से आरोपी को किया गिरफ्तार

पीड़िता की शिकायत के आधार पर पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए एक टीम गठित कर आरोपी की तलाश में जुट गई।

arrest

Dindori News: मध्य प्रदेश के डिंडौरी जिले में एक धोखाधड़ी का मामला सामने आया है, जहां मोबाइल टावर लगाने के नाम पर एक महिला के साथ लाखों रूपए की धोखाधड़ी की गई। वहीं, महिला ने इस मामले की कोतवाली थाना और पुलिस अधीक्षक कार्यालय में लिखित शिकायत कराई थी, जिसके बाद त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

कई किस्तों में मंगवाया रूपए

दरअसल, डिंडौरी जिले की रहने वाली एक महिला को हरियाणा के युवक ने टावर के लगाने के नाम पर धोखाधड़ी की। इस दौरान आरोपी ने फर्जी विज्ञापन के जरिए मोबाइल टावर लगाने के बहाने महिला से कई किस्तों में अलग-अलग बैंकों में 7 लाख 69 हजार रूपए मंगवाया था। वहीं, महिला को आरोपी ने बताया कि टावर लग जाने के बाद 50 हजार रूपए महीने किराया के साथ दो लोगों को नौकरी भी मिल जाएगी। फिलहाल, जब महिला ने आरोपी से टावर भेजने की बात कही तो वह बहाने बनाने लगा, जिसके बाद पीड़िता ने सिटी कोतवाली थाना में मामला दर्ज कराया।

हरियाणा से किया गिरफ्तार

मामले को लेकर एसपी वाहिनी सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में जानकारी देते हुए कहा कि संगीता जैन पति संगीत जैन ने फर्जी विज्ञापन के जरिए जियो टावर को लगवाने के लिए दिए गए मोबाइल नंबर पर रवींद्र दलाल से बात की, जोकि हरियाणा के सिवान जिले के अशोदा गांव का निवासी है। फिलहाल, पीड़िता की शिकायत के आधार पर पुलिस ने 22 मई को हरियाणा के बहादुरगढ़ इलाके में दबिश देकर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। इस दौरान आरोपी के पास से पुलिस ने 4 मोबाइल, 1 स्मार्ट वाच, 7 सिम कार्ड, 3 एटीएम कार्ड के साथ 50 हजार रूपए की नकदी बरामद की।


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है–खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालोमैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।