कोलआदिवासी समाज सात सूत्रीय मांगों को लेकर सीएम कमलनाथ को सौंपेंगा ज्ञापन

डिंडोरी।प्रकाश मिश्रा।

24 फरवरी को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ का जिले में आगमन हो रहा है शबरी माता जयंती के अवसर पर होने वाले कार्यक्रम में मुख्यमंत्री सम्मिलित होंगे। उनके जिले में आगमन पर प्रगतिशील कोल महासभा ने अपनी सात सूत्रीय मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपने का निर्णय लिया है। प्रगतिशील कोल महासभा के प्रदेश अध्यक्ष माखनलाल सरैया ने जिला मुख्यालय में समाज के प्रतिनिधियों के साथ बैठक आयोजित कर जानकारी देते हुए बताया कि पूरे प्रदेश में कोल समाज आर्थिक, सामाजिक शैक्षणिक दृष्टि से अत्यंत पिछड़ा हुआ है।

वर्तमान समय में भी समाज को मुख्यधारा से जोड़ने के लिए विशेष संरक्षण की आवश्यकता है। सरैया का कहना है कि जिस तरह बैगा जनजाति को केंद्र सरकार के द्वारा विशेष जन जाति का दर्जा प्रदान किया गया है उसी प्रकार कोल आदिवासी समाज को भी विशेष जनजाति का दर्जा दिया जाना चाहिए। इसके साथ ही समाज के अधिकांश लोग भूमिहीन हैं जिन्हें भू अधिकार पट्टा प्रदान करने की मांग की जाएगी।

समाज के अधिकांश युवा बेरोजगार है रोजगार की तलाश में पलायन अधिक होता है उनके लिए स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध कराए जाने की मांग की मुख्यमंत्री के सामने रखी जाएगी। रोजगार की तलाश में समाज का एक बड़ा वर्ग दूसरे शहरों की ओर रुख कर लेता है जिसके कारण पूरा परिवार बिखर जाता है और बच्चों को सही समय पर शिक्षा के अवसर प्राप्त नहीं हो पाते जिसके कारण समाज लगातार पिछड़ता जा रहा है।

अतः समाज के लोगों को स्थानीय स्तर पर ही रोजगार के अवसर उपलब्ध कराए जाएं ताकि उनका पलायन रुक सके कोल महासभा के प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि उपरोक्त मांगों को लेकर मध्य प्रदेश के मुख्य मंत्री कमलनाथ से समाज का प्रतिनिधि मंडल मुलाकात करेगा और अपनी मांगों पर सहानुभूति पूर्वक विचार करने की मांग करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here