सरकारी स्कूलों में इस पैटर्न पर हो सकती है 9वीं से 12वीं तक की परीक्षा, तैयारी में जुटा स्कूल विभाग

कोरोना संक्रमण के चलते प्रभावित हुई शिक्षा व्यवस्था को दोबारा पटरी पर लाने के लिए बड़ा बदलाव किया जा रहा है। इसी के तहत अब मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग ने 9वीं से 12वीं तक की कक्षाओं के परीक्षा के संबंध में बड़ा फैसला लिया गया है

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना संक्रमण (Corona infection) के चलते प्रभावित हुई शिक्षा व्यवस्था को दोबारा पटरी पर लाने के लिए बड़ा बदलाव किया जा रहा है। इसी के तहत अब मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग (Madhya Pradesh School Education Department) ने 9वीं से 12वीं तक की कक्षाओं के परीक्षा के संबंध में बड़ा फैसला लिया गया है। सरकारी स्कूलों में छमाही परीक्षाएं ओपन बुक पैटर्न (Open book pattern) पर हो सकती है, इसके लिए विभाग ने तैयारी शुरू कर दी है। 3 नवंबर तक इस पर अंतिम निर्णय हो सकता है।

मध्य प्रदेश के सरकारी स्कूलों की 9वीं से 12वीं तक की अर्धवार्षिक परीक्षाएं नवंबर- दिसंबर में शुरू होगी। इस बार परीक्षाओं को लेकर स्कूल शिक्षा विभाग अलग तरह की तैयारियों में है। दरअसल कोरोना संक्रमण के चलते इस साल स्कूल नियमित रुप से नहीं खुल सकें। हालांकि अनलॉड 4 में गाइडलाइन जारी करते हुए 9वीं से लेकर 12वीं तक की कक्षाओं को शुरू करने का निर्णय लिया गया। इसमें भी बच्चे अपनी स्वेच्छा से स्कूल आने और नहीं आने का निर्णय ले सकते हैं। स्कूल खुलने के बाद 21 सितंबर से अब तक 9वीं से 12वीं तक की कक्षाओं के लिए दो घंटे का सैशन ही हुआ है, इसके अलावा छात्र केवल ऑनलाइन क्लासेस पर ही निर्भर हैं। ऐसे में छात्रों की सहूलियत को देखते हुए यह परीक्षाएं ओपन बुक पैटर्न से हो सकती हैं। इसकी तैयारी स्कूली शिक्षा विभाग ने शुरू कर दी है और प्रस्ताव तैयार कर शिक्षकों और प्राचार्यों से सलाह इस संबंध में सलाह ली जा रही है। इस पर अंतिम निर्णय 3 नवंबर को लिया जाएगा। बताते चलें कि कोरोना काल में ज्यादातर कॉलेज या यूनिवर्सिटी में फाइनल ईयर परीक्षा ओपन बुक पैटर्न पर हुई हैं। गौरतलब है कि इससे पहले 10वीं और 12वीं की कक्षाओं को लेकर भी शिक्षा विभाग ने बदलाव का फैसला करते हुए सिलेबस को छोटा करने और परीक्षा पैटर्न बदलने की तैयारी कर रही है।