नाबालिगों पर फेसबुक का प्यार पड़ा भारी, प्राइवेट रिलेशन बनाने से लड़की पहुंची अस्पताल, तो लड़का जेल

बैतूल में फेसबुक पर दोस्ती के बाद दो नाबालिगों का प्यार उन्हें एक दूसरे के पास खींच लाया। लेकिन इसके बीच हावी हुई हवस ने नाबालिग किशोरी को अस्पताल तो नाबालिग किशोर को संप्रेक्षण गृह पहुंचा दिया।

बैतूल, वाजिद खान। मध्य प्रदेश के बैतूल जिले (Betul district) में सोशल मीडिया का प्यार दो नाबालिगों पर हावी हो गया जिसका परिणाम बेहद घातक सामने आया है। बैतूल में फेसबुक (Facebook) की दोस्ती दो नाबालिगों को करीब ले आई, लेकिन शारीरिक संबंध ने नाबालिग किशोरी को अस्पताल तो नाबालिग किशोर को संप्रेक्षण गृह पहुंचा दिया। वहीं, किशोरी की हालत खराब होने पर उसे नागपुर में भर्ती करवाया गया है। मामला बैतूल कोतवाली में दर्ज किया गया है।

ये भी देखें- Indore : भोपाल में पदस्थ रेलवे कर्मचारी के इंदौर के घर से लाखों की चोरी, जांच में जुटी पुलिस

दरअसल महाराष्ट्र की रहने वाली 17 साल की नाबालिग की फेसबुक पर 17 साल के नाबालिग किशोर से दोस्ती हो गई। दोस्ती के बाद प्यार दोनों को करीब ले आया। मुलताई थाना इलाके के एक गांव में रहने वाले किशोर ने नाबालिग किशोरी को महाराष्ट्र के सीमावर्ती कस्बे प्रभटपट्टन बुलवाया और फिर बैतूल ले आया। यहां उसके साथ संबंध बनाये, जिसके कारण किशोरी की हालत बिगड़ गई। उसे इलाज के लिए नागपुर ले जाया गया है। जबकि किशोर को पुलिस ने बाल संप्रेक्षण गृह भेज दिया है।

रक्तस्राव से बिगड़ी हालत, तब हुआ खुलासा

कोतवाली टीआई रत्नाकर हिंग्वे के मुताबिक किशोर भोपाल में स्नातक की पढ़ाई कर रहा है। जबकि किशोरी सीमावर्ती महाराष्ट्र की रहने वाली है। दोनों की सोशल मीडिया पर दोस्ती हुई थी। एक ही समाज के होने के कारण दोस्ती जल्द ही गहरी हो गई। इसी बीच किशोर ने उसे झांसे से बैतूल बुलवाया और यहां एक धार्मिक स्थल पर घुमाने के बाद वह खंजनपुर स्थित दोस्त के रूम पर ले गया और यहां पर उसके साथ दुराचार किया।

किशोरी को अत्यधिक रक्तस्राव होने पर वह उसे प्राइवेट डॉक्टरों के पास ले गया। लेकिन डॉक्टर ने मामला लेने से इनकार कर दिया। मजबूरी में उसे जिला अस्पताल लेकर आना पड़ा। जहां किशोरी को भर्ती करवाकर उसके परिजनों को सूचना दी गई। हालत खराब होने पर वे उसे इलाज के लिए नागपुर ले गए। इधर पुलिस ने किशोर के खिलाफ धारा 376, पॉक्सो एक्ट में केस दर्ज कर उसे हिरासत में ले लिया। यहां से उसे संप्रेक्षण गृह भेज दिया गया।