भारतीय रेलवे में पहला हाई स्पीड NMGH ऑटोमोबाइल कैरियर कोच की शुरूआत, जानें खासियत

पमरे के सीआरडब्ल्यूएस भोपाल द्वारा 25 एनएमजी कोच का पहला एनएमजीएच रैक तैयार किया गया है। इसी के साथ कई मॉडिफिकेशन भी किये गये हैं।

जबलपुर, संदीप कुमार। भारतीय रेलवे (Indian Railways) द्वारा ऑटोमोबाइल ट्रांसपोर्ट के सुरक्षित और तेज परिवहन के लिए रेलवे बोर्ड एवं आरडीएसओ (Railway Board) ने अब गुड्स ट्रेन को 110 किमी प्रति घंटे की गति क्षमता के साथ नए डिजाइन कोचों को बनाने का निर्णय लिया है। आरडीएसओ (RDSO) ने पुराने आईसीएफ कोच को मॉडिफाइड कर एनएमजी कोचों में परिवर्तित करते हुए संशोधित डिजाइन न्यू मॉडिफाइड गुड्स हाई स्पीड (एनएमजीएच) के रूप में बनाया है।

ये भी देखें- शिवराज सरकार का बड़ा फैसला- आगामी चुनावों से पहले पूर्व मंत्री को सौंपी अध्यक्ष की जिम्मेदारी

आपको बता दें, भारतीय रेलवे ने माल यातायात की सुरक्षित और किफायती परिवहन के लिए आईसीएफ कोचों को परिवर्तित और 110 किमी प्रति घंटे की गति से चलने के लिए नए एनएमजीएच तैयार किए है। शुरुआत में रेलवे बोर्ड ने 100 कोचों को पमरे के भोपाल कोच पुनर्निर्माण कारखाना (CRWS/BPL) में बदलने का निर्णय लिया गया है। भारतीय रेल की पहली 25 कोचों वाली हाई स्पीड न्यू मॉडिफाइड गुड्स रेल पश्चिम मध्य रेल के CRWS कारखाना भोपाल ने 31 अगस्त 2021 को परिवहन के लिए तैयार कर दी थी।  यह आरडीएसओ के नए डिजाइन ऑटोमोबाइल कैरियर कोच (एनएमजीएच) के अनुसार भारतीय रेलवे में एनएमजीएच का अब तक का पहला रैक है।

ये भी देखें- बैतूल से आए आदिवासी दल ने रेप के आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर SP ऑफिस में दिया धरना

पुराने एनएमजी रैक को डिजाइन कर और बेहतर बनाया गया है। जानिए इस मोडिफिकेशन से जुड़ी कुछ खास बातें-

  • नये एनएमजीएच कोच की गति 75 kmph से बढ़ाकर 110 kmph तक के लिए किया गया है। इससे ट्रेन की गति क्षमता को लगभग 46.6 प्रतिशत तक बढ़ोत्तरी हुई जिससे तेज परिवहन हो सकेगा।
  • इसी तरह प्रति कोच 30.4 प्रतिशत अधिक भार क्षमता प्राप्त करने के लिए एमएमजीएच में वहन क्षमता को 9.2 टन से बढ़ाकर 12 टन कर दिया गया है।
  • नये डिजाइन कोच के अंदर चौड़ाई और ऊंचाई बढ़ाई गई है जिससे कि एसयूवी, ट्रैक्टर, टाटा 407 आदि ऑटोमोबाइल का परिवहन आसानी से हो सकेगा।
  • नए डिजाइन में दरवाजे पर बैरल टाइप लॉकिंग व्यवस्था का प्रावधान एल्ड्रॉप बोल्ट लॉकिंग व्यवस्था के पुराने डिजाइन की तुलना में अधिक सुरक्षा प्रदान करता है।
  • कोचों के इंटीरियर में वेंटिलेशन और रोशनी को बढ़ाने के लिए 8 खिड़कियों को कोच के दोनों तरफ लगाया गया है
  • इसी प्रकार सुरक्षित लोडिंग/अनलोडिंग के लिए कर्मचारियों के मार्गदर्शन के लिए कोचों के इंटीरियर के साथ पीले रंग और बहु रंग फुटपाथ ब्लॉकों में रेट्रो-रिफ्लेक्टिव टेप का प्रावधान है। कोच की छत के बीच में एक प्राकृतिक पाइप व्यवस्था का प्रावधान किया गया है।
  • हाई स्पीड न्यू मॉडिफाइड गुड्स कोचों (एनएमजीएच) की आसान पहचान और बेहतर सौंदर्य उपस्थिति के लिए नई रंग योजना प्रदान की गई है।