शादी का खाना खा कर दो दर्जन से ज्यादा बच्चे बीमार, इलाज के लिये रात भर होते रहे परेशान

छपरा गांव में बीती रात शादी समारोह था जिसमें खाना खाने से लगभग दो दर्जन से अधिक बच्चे बीमार हो गए और उन्हे उल्टी दस्त की शिकायत हो गई।

डबरा, सलिल श्रीवास्तव। सिविल अस्पताल की व्यवस्थाओं का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि बीती रात शादी में खाना खाने से हुए बीमार दो दर्जन से अधिक बच्चे रात में डॉक्टरों के इंतजार में परेशान होते रहे। सुबह मीडिया के पहुँचने के बाद डॉक्टर पहुंचे और उनका उपचार शुरू किया।

यह भी पढ़ें- Mandi bhav: 5 जून 2022 के Today’s Mandi Bhav के लिए पढ़े सबसे विश्वसनीय खबर

आपको बता दे कि छपरा गांव में बीती रात शादी समारोह था जिसमें खाना खाने से लगभग दो दर्जन से अधिक बच्चे बीमार हो गए और उन्हे उल्टी दस्त की शिकायत हो गई। ग्रामीण और परिजन उन्हें तुरंत लेकर सिविल अस्पताल डबरा पहुंचे जहां उन्हें कोई भी चिकित्सक नहीं मिला। सुबह जब मीडिया को जानकारी लगी तो प्रशासनिक अधिकारी हरकत में आए और बीएमओ सहित अन्य चिकित्सक भी मौके पर पहुंचे तब जाकर बच्चों का उचित उपचार शुरू पाया।

यह भी पढ़ें- सीने में जलन और पेट की गर्मी से हैं परेशान तो ये घरेलू नुस्खे से तुरंत पाएं आराम

इस दौरान डबरा विधायक सुरेश राजे भी मौके पर पहुंच गए और अस्पताल की व्यवस्थाओं पर जमकर नाराजगी व्यक्त की उनका कहना था कि यहां की व्यवस्थाएं काफी खराब है ना तो ग्लूकोस की बोतलें है ना ही उचित जांच हो रही है और तो और प्रसूताओं के लिए पंखे भी उपलब्ध नहीं है सबसे बड़ी बात समय पर चिकित्सक उपलब्ध नहीं होते जिसके कारण लोगों को काफी परेशानी उठानी पड़ती है।

यह भी पढ़ें- khandwa News : ट्रैक्टर-ट्रॉली पलटी, 5 लोगों की मौत

आपको बता दें कि डबरा का सिविल अस्पताल स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने का क्षेत्र में एकमात्र स्थान है लेकिन यहाँ की स्थिति काफी खराब बनी हुई है लोगों को स्वास्थ सुविधाएं उपलब्ध कराने वाला ये अस्पताल खुद ही बीमारी की हालत में बना हुआ है यहाँ ना तो जाँच हो पा रही है ना ही प्रसूताओं को पंखे मिल पा रहे हैं।

इस बात की शिकायत भी ज़िला चिकित्सा अधिकारी से 2 दिन पूर्व हुई बैठक में लोगों द्वारा की गई उन्होंने कार्रवाई का आश्वासन दिया था आज फिर वही हाल देखने को मिला दो दर्जन से अधिक बच्चे इलाज के लिए परेशान होते रहे सबके ज़हन में सिर्फ़ एक ही सवाल है कि आख़िर कब इस अस्पताल की हालत सुधरेगी।