बाढ़ पीड़ितों से मिलने सेवढ़ा पहुंचे पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह, जाना हाल-चाल

सेवढ़ा, राहुल ठाकुर। अगर सिंचाई विभाग के लोग समय पर सचेत रहकर कार्य करते तो हम लोग के समक्ष यह विकराल दृश्य देखने के लिए कभी नही आता और अपने ही घर से बेघर नही होते हो आज आप लोगो के स्वयम के सर से छत का साया चला गया और आंखों के सामने यह मंजर कैसा रहा होगा उस वक्त मैं अच्छी तरह से जानता हूँ सिचाई विभाग के लापरवाही से उन्होंने एक साथ 12 गेट खोलकर भिंड, दतिया, ग्वालियर में पानी ने जो तवाही मचाई है उसे देखकर सब कुछ तवाह कर दिया है उक्त बात सेवढ़ा (Seondha) बाढ़ पीड़ितों से मिलने पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने वार्ड क्रमांक 2 में बाढ़ पीड़ितों के समक्ष कही।

यह भी पढ़ें…Guna News : थाना प्रभारी थे सामने लेकिन सफाई कर्मी ने किया ध्वजारोहण, जाने क्यों ?

दिग्वजय सिंह ने सत्ता आसन पर आसीन नेताओं और अधिकारियों पर निशाना साधते हुए कहा कि आज 13वें दिन बाद भी लोगों के घर बाढ़ से बह गए है। कई घरों में पानी भर जाने से जमीदोज हो गए। साथ ही खाने के लिए एक अन्न का दाना भी नहीं बचा है। तब भी मध्यप्रदेश शासन के मुखिया मध्यप्रदेश की जनता के लिए अपने आप को मामा बताते है अरे मामा आपके भनिज सड़क पर आ गए। तब भी 13वें दिन कोई सुध अभी तक नही ली। बेचारे बाढ़ पीड़ित खेतो व खुले आसमान के नीचे अपने छोटे-छोटे बच्चों के साथ रात बिताने पर मजबूर है।

बाढ़ पीड़ितों से मिलने सेवढ़ा पहुंचे पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह, जाना हाल-चाल

पूर्व मुख्यमंत्री को देख बाढ़ पीड़ितों ने स्थानीय प्रशासन की नाकामी को गिनाते हुए कहा कि पटवारियों द्वारा गलत सर्वे किया जा रहा है। कई लोगो के घरों तक सर्वे दल पहुँचा ही नहीं है। अब ये भी तो पता नहीं है पटवारी आखिर क्या लिखकर ले गया है आप ही कुछ करें। जिस पर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने आश्वासन देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना में बाढ़ पीड़ितों के लिए आवास की सूची में नाम जोड़े जाए। जिससे आप लोग पुनः अपने घरों का निर्माण कर सकते है। विपदा की घड़ी है धीरे-धीरे हम सब मिलकर इस विकराल समय से उभरकर निकल आएंगे। कार्यक्रम के पहले पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, फूल सिंह बरिया, अशोक सिंह यादव, देवाशीष जरारिया, सेवढा विधायक घनश्याम सिंह मुख्य रूप से मौजूद रहे। जिन्होंने करीब दो घण्टे में वार्ड पीड़ितों के घर-घर जाकर उनके नफा नुकसान की जानकारी ली। वहीं राजेन्द्र मांझी गोताखोर से मुलाकात कर उसकी बहादुरी के लिए पीठ थपथपाई क्योकि उसने समय रहते वार्ड में जल स्तर बढ़ने से लोग अपने ही घरों में फस गए थे तो उसने अपनी नाव से लोगो को सुरक्षित उनके घरों से निकाला था। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने बाढ़ पीड़ितों को विधायक घनश्याम सिंह नेतृत्व में राशन सामग्री वितरित की गई। इस मौके पर जैवेन्द सिंह परिहार, राजेन्द्र नोनेरिया, मुमताज खान, जितेंद्र पठारी, उधम नागिल, मनमोहन दीक्षित, अपरबल साहनी, बादशाह खान, नरेंद्र गंधी, अजय दुबे समेत कांग्रेस पार्टी के पदाधिकारियों का जन सैलाब शामिल रहा।

यह भी पढ़ें… राजगढ़: परेड निरीक्षण के दौरान प्रभारी मंत्री डॉ. मोहन यादव के वाहन पर लगा उल्‍टा तिरंगा