खेल के दौरान बच्ची ने गंवाई जानः छज्जे पर छुपने गई दिव्यांशी गिरी नीचे, हुई मौत

ग्वालियर जिले में एक चार साल की बच्ची ने खेल-खेल में अपनी जान गवां दी। जहां छुपन-छुपाई के दौरान दो मंजिला छत के छज्जे से फिसलकर नीचे गिरने से बच्ची की मौत हो गई। 

prisoner-who-was-released-on-parole-has-planned-for-his-death

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। अक्सर खेल-खेल में बच्चों की जान आफत में आ जाती है। ऐसा ही मामला ग्वालियर जिले से सामने आई है, जहां छुपन-छुपाई के खेल के दौरान एक बच्ची छज्जे से गिर गई। जिससे चार साल की बच्ची की मौत हो गई है।

मासूम हार गई जिंदगी जंग

दरअसल मामला ग्वालियर जिले के नौगांव कंपू क्षेत्र की घटना है, जहां एक चार साल की मासूम दिव्यांशी अपनी चाचा की बेटी के साथ दो मंजिल की छत पर खेल रही थी। जहां छुपने के दौरान बच्ची छत के छज्जे में चली गई और पैर फिसलने से सीधे नीचे जा गिरी। जिसके बाद परिजनों ने बच्ची को आनन-फानन में अस्पताल पहुंचाया, लेकिन 20 घंटे जिंदगी और मौत की जंग में बच्ची ने दम तोड़ दिया।

घटना के बाद सहमा परिवार

घटना के बाद से पूरे परिवार में मातम का माहौल है। वहीं कंपू पुलिस ने बच्ची का पोस्टमार्टम कराकर जांच शुरू कर दी है। बता दें कि बच्ची के पिता जितेंद्र सिंह बघेल मजदूरी करते है। जिनके दो बच्चे, एक बेटा और एक बेटी थी। जो अपनी चचेरी बहन मानसी के साथ खेल रही थी, और खेल-खेल में बिटियां की जान चली गई।

इस घटना के बारे में मृत बच्ची के पिता ने कहा कि अभी-अभी उन्होंने नया घर बनवाया है, जहां छज्जे में ग्रिल नहीं लगी है। वहीं दोनों बच्चियां खेल रही थी। वहीं पिता जितेंद्र ने कहा कि “काश! अगर मैं छज्जे पर ग्रिल लगा लिया होता, तो मेरी बेटी आज मेरे पास होती।”

आई थी गंभीर चोटें

पिता जितेंद्र ने बताया कि उनकी बेटी दो मंजिले छत के छज्जे से गिरी थी। जिसके कारण पूरी शरीर की पसलियों में गंभीर चोटें आई थी। वहीं सिर से भारी खून बह रहा था। बता दें कि डॉक्टरों ने भी उनकी बेटी को बचाने की हर संभव कोशिश की, लेकिन बचा नहीं सके।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here