Indore : रेहड़ी और ठेले लगाने वालों के लिए खुशखबरी, दिवाली तक राजवाडा पर लगा सकेंगे दुकानें

दिवाली (Diwali) का त्योहार काफी करीब आ गया है। ऐसे में लोग खरीदारी करने के लिए अभी से ही बाजारों में जाने लगे है। दरअसल, बीते 2 साल से एक और हमारी की वजह से दीवाली त्योहार की रौनक देखने को नहीं मिली।

diwali, indore

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। दिवाली (Diwali) का त्योहार काफी करीब आ गया है। ऐसे में लोग खरीदारी करने के लिए अभी से ही बाजारों में जाने लगे है। दरअसल, बीते 2 साल से एक और हमारी की वजह से दीवाली त्योहार की रौनक देखने को नहीं मिली। लेकिन इस साल कोई भी गाइडलाइन और महामारी नहीं होने की वजह से बाज़ारों में दिवाली के त्योहार की रौनक देखने को मिलेगी। क्योंकि लोग अभी से ही खरीदारी करने के लिए निकल पड़े है। ऐसे में सड़क किनारे और फुटपाथ पर दुकान लगाने वाले लोगों के लिए हाल ही में इन्दौर (Indore) प्रशासन द्वारा खुशखबरी दी गई है।

बताया जा रहा है कि इंदौर के नव नियुक्त महापौर पुष्यमित्र भार्गव ने राजवाड़ा चौक के सड़क किनारे फुटपाथ पर दुकानें लगाने वाले लोगों को दीपावली तक रेहड़ी वह ठेले लगाने की अनुमति दे दी है। ऐसे में अब दिवाली तक बाजार में सभी रेहड़ी और ठेले वालों की रौनक भी देखने को मिलेगी। पहले इन्हें दुकान लगाने की अनुमति नहीं थी। ऐसे में अब ये सभी लोग दिवाली तक के लिए दुकान लगा सकेंगे। लेकिन निगम द्वारा बताए गए निर्देशों का पालन करना इन दुकानदारों के लिए बेहद जरुरी है। इतना ही नहीं ये भी कहा गया है कि दिवाली के बाद दुकानदार सड़कों पर अपनी दुकान और रेहड़ी नहीं लगा सकेंगे।

Must Read : किताबों के शौकीनों के लिए अच्छी खबर, इंदौर की इस ओपन लाइब्रेरी में 24 घंटे पढ़ सकेंगे बुक्स

जानकारी के मुताबिक, गुरुवार के दिन करीब 100 से ज्यादा दुकानदारों ने दुकान लगाने की मांग को लेकर हंगामा किया। इन सभी दुकानदारों ने नगर निगम में इकट्ठा होकर नगर निगम के खिलाफ नारे बाजी की साथ ही ये हंगामा डेढ़ बजे से किया गया। इस दौरान पुराने कपड़े भी दुकानदारों द्वारा जलाए गए। ऐसे में करीब 4 घंटे तक यातायात भी प्रभावित हुआ। जिसके बाद नगर निगम के रिमूवल अधिकारी बबलू कल्याणे और उनकी टीम द्वारा सभी को समझाया गया लेकिन कोई नहीं समझा।

दरअसल नगर निगम द्वारा डेढ़ महीने पहले इन सभी दुकानदारों को फुटपाथ से हटा दिया गया था। वहीं फुटपाथ पर दुकान लगाने की भी रोक लगा दी गई थी। इतना ही नहीं इन के लिए गोपाल मंदिर के पास पुराने SP ऑफ़िस परिसर में ही दुकान लगाने की सुविधा भी दी गई। लेकिन दुकानदार उस जगह जाने के लिए तैयार ही नहीं है। क्योंकि राजवाड़ा चौक ऐसी जगह है जहाँ पर दीवाली जैसे त्योहार की काफ़ी ज़्यादा रौनक देखने को मिलती है। वहीं लोगों की खरीदारी के लिया भीड़ भी काफी ज्यादा रहती है। काफ़ी दुकानदार फुटपाथ पर अपने सजावटी वस्तुएँ फूल व अन्य चीज़ों की दुकाने लगाकर बैठते हैं।