गुना, विजय कुमार जोगी। बमोरी को सीएम शिवराज सिंह चौहान ने 600 करोड़ की सौगात दी है। शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने यहां एक विशाल आम सभा को संबोधित किया।

इसी सभा के दौरान विकास कार्यों का शिलान्यास मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा किया जाना था होना था लेकिन ऐन वक्त पर आचार संहिता लगने की सुगबुगाहट के चलते ये काम टाल दिया गया और बाद में बीजेपी के कुछ नेताओं द्वारा विकास कार्यों के शिलान्यास कराया गया।

तकरीबन डेढ़ घंटे की देरी से मंच पर पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और ज्योतिरादित्य सिंधिया मंच ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और कमलनाथ पर जमकर आरोप लगाए। इस दौरान ज्योतिरादिस्त सिंधिया ने बमोरी में हुए कई विकास कार्यों का उल्लेख किया और कहा कि एक समय बामोरी विधानसभा में मैंने सड़कों के जाल बिछा दिए, कई स्टॉप डेम मेरे केंद्रीय मंत्री रहते हुए स्वीकृत कराए। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर निशाना साधते हुए सिंधिया ने कहा कि मेरे मंत्री मुख्यमंत्री के ऑफिस के बाहर खड़े रहते थे लेकिन कमलनाथ जी को मेरे मंत्रियों की बात सुनने के लिए समय नहीं हुआ करता था। जब मेरे मंत्रियों की सुनी नहीं गई तो मैंने भी आपके लिए और जनता के लिए सरकार को गिरा दिया।

वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि मैंने तो बस यही सोचा था कि हमें 5 साल तक विरोध करना है, लेकिन सिंधिया जी ने सही समय पर आकर सरकार हमारा साथ दिया और मुझे दोबारा आपकी सेवा करने का मौका दिया। कमलनाथ और दिग्विजय सिंह पर तंज कसते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इन दोनों के नाम नहीं बोलूंगा, वरना मुझे नहाना पड़ेगा। चुनाव में पहली बार यह देखा गया कि मुख्यमंत्री और ज्योतिरादित्य सिंधिया दोनों मंच पर जनता को संबोधित करते रहे लेकिन जो प्रत्याशी बमोरी विधानसभा से बीजेपी ने सुना है वह गैरमौजूद रहे। इसकी वजह ये है कि महेंद्र सिंह सिसोदिया को कोरोना हुआ है और वो कारण भोपाल में निजी अस्पताल में भर्ती हैं। मंच से मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया की वीडियो से की गई अपील जनता को दिखाई गई जिसमें महेंद्र सिंह सिसोदिया ने जनता को संबोधित भी किया और मुख्यमंत्री और सिंधिया का आभार भी जताया।