वनभूमि में कब्जे को लेकर दो पक्षों में खुनी संघर्ष, पुलिस को करना पड़ा हवाई फायर

गुना| विजय जोगी| मध्य प्रदेश का गुना जिलों इन दिनों सुर्ख़ियों में है| अब जिले में रविवार को दो वन भूमि के विवाद को लेकर दो पक्षों में जमकर खूनी संघर्ष हुआ । विवाद के दौरान एक-दूसरे पर लाठी, फरसे और गोफन से हमला किया गया, जिससे एक पक्ष के 10 और दूसरे पक्ष के चार लोग घायल हो गए हैं। घटना के बाद गांव में तनाव का माहौल है और भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात किया गया है।

जानकारी के मुताबिक जिले में फतेहगढ़ थाना क्षेत्र के डोबरा और बीलखेड़ा गांव में वन भूमि पर जंगल की अवैध कटाई को लेकर दो पक्षों में जमकर विवाद हो गया| एक पक्ष के लोग कटाई कर रहे थे, जबकि दूसरे पक्ष के लोगों ने इसका विरोध किया। हमले में एक पक्ष के करामत, जफर, तबरेज, फिरोज, मुश्ताक, मुनावर, जिगर समेत 10 लोग घायल हुए। दूसरे पक्ष के वर सिंह, बड़ी, दौलतराम व अमर सिंह को चोटें आई हैं। घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। पुलिस ने दोनों पक्ष की रिपोर्ट पर प्रकरण दर्ज किया है।

विवाद के बाद बड़ी संख्या में लोग फतेहगढ़ थाने पहुंचे और थाने का घेराव कर दिया। भीड़ को उग्र होता देख पुलिस को भीड़ खदेड़ने के लिए हवाई फायर तक करने पड़े। मुस्लिम समुदाय पर कार्रवाई करने की मांग को लेकर भील समुदाय के लोगों ने लाठियां लेकर थाने का घेराव किया। घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। वहीं गांव में पुलिस तैनात है|

दोनों पक्षों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज
विवाद की सूचना प्राप्त होने पर तत्काल थाना प्रभारी फतेहगढ़ उपलब्ध बल के साथ घटनास्थल पहुँचे और दोनों पक्षों को समझाने का प्रयास किया और विवाद नहीं करने की हिदायत दी गई। किन्तु, दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर पत्थर फेंकना बंद नहीं किये। इसे देखते हुए विवाद पर नियंत्रण करने तथा कानून व्यवस्था एवं शांति व्यवस्था बनाये रखने के उद्देश्य से थाना प्रभारी द्वारा आवश्यक कदम उठाए जाने पर लोग घटना स्थल से भाग गए। कलेक्टर द्वारा वन विभाग को वनभूमि क्षेत्र की सरहदबंदी करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही उन्होंने कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने पुलिस बल तैनात करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि वनभूमि के कब्जे को लेकर हुए उक्त विवाद में दोनों पक्षों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज की गयी है।