गुना, विजय जोगी। आज कांग्रेस और किसान संगठन ने मिलकर किसान बिल और बिजली बिल 2020 को रद्द करने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। गुना के सिटी सेंटर लक्ष्मी गंज में यह विरोध प्रदर्शन रखा गया जहां पर पूर्व मंत्री एवं वर्तमान राघौगढ़ विधायक जयवर्धन सिंह तथा पूर्व सांसद एवं वर्तमान चाचौड़ा विधायक लक्ष्मण सिंह किसान संगठन और कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के साथ मौजूद रहे।

गुना की सड़कों पर आज कांग्रेस ने बीजेपी के खिलाफ और केंद्र की नीतियों के खिलाफ कई तरह के आरोप लगाए। किसान हित में अपनी मांगों को लेकर कांग्रेस ने इन मुद्दों पर यह विरोध प्रदर्शन किया। इनमें व्यापारिक कंपनियां, कारपोरेट घरानों, पूंजीपतियों के हित में काम ना करने, अनाज दालें आलू प्याज वनस्पति तेल तिलहन के स्टॉक लिमिट को खत्म करने, जमाखोरी पर अंकुश लगाया जाने, मौजूदा मंडियों को किसान कवच के रूप में बना रहने दिया जाने, कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग पर रोक लगाई जाने की मांग की गई। कांग्रेस का कहना है कि कृषि कानून में एमएसपी का जिक्र तक नहीं है, जिसके कारण किसानों को लागत मूल्य सही न मिलने से कई किसान आत्महत्या कर चुके हैं। ऑल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन इन तीनों काले कानून के विरोध में 45 दिन से आंदोलन कर रहा है, हरियाणा और पंजाब के लाखों किसान सिंधु बॉर्डर पर खुले आसमान के नीचे धरना प्रदर्शन कर रहे हैं, उन्हीं के समर्थन में गुना में भी धरना प्रदर्शन हुआ। कांग्रेस ने चेतावनी दी है कि जब तक बिजली बिल कानून रद्द नहीं होगा तब तक आंदोलन लगातार जारी रहेगा।