पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष ने जताई भ्रष्टाचार की आशंका, नगरपालिका द्वारा जारी विज्ञप्ति पर दर्ज कराई आपत्ति

गुना कलेक्टर को लिखा पत्र,राजेंद्र सिंह सलूजा बोले स्पष्ट होना चाहिए निर्माण कार्यों की स्थिति इसी मुद्दे पर परिषद के पहले सम्मेलन में हो चुका है हंगामा

गुना,संदीप दीक्षित। नगरी निकाय चुनाव बाद से ही विवादों में घिरी गुना नगर पालिका (Guna Municipality) अब भाजपा नेताओं के निशाने पर हैं। 16 सितंबर को आयोजित परिषद के पहले सम्मेलन में विपक्षी और विरोधी पार्षदों द्वारा आपत्ति दर्ज कराई जिसका समर्थन अब भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता पूर्व विधायक और पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष राजेंद्र सिंह सलूजा ने भी किया है। समाचार पत्रों में जारी विज्ञप्ति का हवाला देते हुए सलूजा ने गुना कलेक्टर को पत्र लिख नगर पालिका द्वारा कराए जा रहे निर्माण कार्यों में भ्रष्टाचार की आशंका जताई है।

यह भी पढ़े…पुलिस कर्मियों को CM ने दिया दीपावली का बड़ा तोहफा, भत्ते में 2.5 गुणा तक की वृद्धि, खाते में बढ़ेगी राशि

आपको बता दें कि गुना नगर पालिका ने पहली बार सभी 37 वार्डों को क्लस्टर में बांट दिया है। नगर पालिका ने 9 वार्डों का एक क्लस्टर बनाया है और इनमें निर्माण व मरम्मत कार्य के लिए लगभग 24-24 लाख रुपए की राशि जारी की है। नगरपालिका के इंसानों के तरीके को लेकर पूर्व अध्यक्ष राजेंद्र सिंह सलूजा ने आपत्ति दर्ज कराई है और स्पष्ट लिखा है कि ऐसा करने से भ्रष्टाचार हो सकता है।

पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष ने जताई भ्रष्टाचार की आशंका, नगरपालिका द्वारा जारी विज्ञप्ति पर दर्ज कराई आपत्ति

यह भी पढ़े…मोदी राज में नरोत्तम मिश्रा को मिली बड़ी जिम्मेदारी, अब इन सीटों के लिए करेंगे काम

सलूजा ने नगर पालिका एक्ट का हवाला देते हुए इसे अनुचित करार दिया है। इससे पहले परिषद के सम्मेलन में भाजपा और कांग्रेस के कई पार्षद नगरपालिका से मांग कर चुके थे कि अलग-अलग वार्डों के लिए राशि विभाजित की जाए जिससे पता चल सके कि किस वार्ड में निर्माण व विकास कार्य के लिए कितना पैसा खर्च किया जा रहा है।