चाचौड़ा दुष्कर्म मामले में प्रशासन का कड़ा एक्शन, आरोपियों के मकान पर चलाया बुलडोजर

गुना के चांचौड़ा में हुए दुष्कर्म के मामले में अब प्रशासन ने कड़ा रुख अपना लिया है और लगातार आरोपियों पर कार्रवाई जारी है।

गुना, संदीप दीक्षित। गुना (Guna) जिले के चाचौड़ा में शुक्रवार को हुई सामूहिक दुष्कर्म की घटना में नए-नए खुलासे हो रहे हैं। पीड़िता के पिता ने एम पी ब्रेकिंग को बताया है कि जिन आरोपियों ने इस जघन्य वारदात को अंजाम दिया है उसमें चाचौड़ा थाना प्रभारी का निजी ड्राइवर है जो अक्सर उनका वाहन चलाता था। बताया जा रहा है कि आरोपी ड्राइवर संजीव माली को गिरफ्तार किया जा चुका है। हालांकि दूसरी ओर पीड़ित पक्ष पुलिस की अब तक की कार्यवाही से संतुष्ट है।

गुना सांसद डॉक्टर के पी यादव, पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया और पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह ने भी पीड़ित पक्षों से चर्चा कर पूरे मामले की जानकारी लिए और सख्त से सख्त कार्रवाई का भरोसा दिलाया है। उधर जिला अस्पताल में भर्ती पीड़ित से मिलने के लिए सामाजिक संगठनों के सदस्य भी पहुंचे। हर तरफ से मांग उठ रही है कि आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा मिलना चाहिए।

Must Read- कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर, डीए एरियर भुगतान पर अपडेट, नवंबर में हो सकता है फैसला

चांचौड़ा में नाबालिग दुष्कर्म पीडि़ता से यादव समाज के प्रदेश अध्यक्ष जगदीश सिंह यादव ने मुलाकात की। यादव गुना जिले के स्थानीय पदाधिकारियों के साथ जिला अस्पताल पहुंचे और पीडि़ता के परिजनों से चर्चा करते हुए अब तक हुई कार्रवाई की जानकारी ली। इसके बाद पत्रकारों से रूबरू होते हुए प्रदेश अध्यक्ष यादव ने प्रशासन और पुलिस की कार्रवाई पर संतोष जताया है। घटना के लिए चांचौड़ा टीआई को जिम्मेदार ठहराया है और उन्हें मुलजिम बनाने की मांग की है।

दरअसल पीडि़त का दुष्कर्म करने से पहले आरोपियों ने किसी मादक पदार्थ का इस्तेमाल किया था। यादव समाज प्रदेश अध्यक्ष का कहना है कि चांचौड़ा में नशे से संबंधित मादक पदार्थ कैसे पहुंच रहे थे, इसकी बड़े स्तर पर जांच कराई जाना चाहिए और दोषी पुलिसकर्मी को बर्खास्त करते हुए उन्हें जेल भेजा जाए। नशे की बुराई के खिलाफ इस तरह की कार्रवाई पूरे देश में किए जाने की आवश्यकता प्रदेश अध्यक्ष ने जताई है। साथ ही दुष्कर्म पीडि़ता का भविष्य सुरक्षित करने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से ध्यान देने को कहा है।