पूर्व मंत्री ने कहा- “कांग्रेस पार्टी नहीं नेताओं का समूह,अब नहीं आएगा जंगल में तीसरा शेर”

गुना/विजय कुमार जोगी

गुना। कांग्रेस पार्टी नहीं है बल्कि अलग अलग नेताओं का समूह है,पूरे प्रदेश में अलग अलग नेताओं के समूह ही काम कर रहे हैं, पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने के बाद ग्वालियर चंबल संभाग में कांग्रेस खत्म हो गई है, ये बात भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने कही है।

उमाशंकर गुप्ता गुना में बमौरी विधानसभा चुनाव प्रबंध समिति एवं प्रचार अभियान के शुरुआत के लिए आए थे। उनके साथ भोपाल के पूर्व जिलाध्यक्ष विकास विरयानी भी मौजूद थे। गुप्ता ने कहा कि कर्जमाफी के नाम पर कांग्रेस ने किसानों के साथ धोखा किया है,किसानों को प्रमाण पत्र दे दिए लेकिन उनका बैंक में पैसा नहीं भरा इसलिए किसान का कर्ज माफ नहीं हुआ। एक प्रश्र के उत्तर में उन्होने कहा कि भाजपा में आत्मसात करने की क्षमता है इसलिए कोई भी कार्यकार्ता आता है तो टकराव नहीं होता बल्कि पार्टी उसे अपने साथ आत्मसात कर लेती है। दिग्विजय सिंह द्वारा यह कहने पर की मंत्रिमंडल चोरों का बंटवारा है, गुप्ता ने करारा व्यंग करते हुए कहा कि दिग्वियज सिंह दस साल तक प्रदेश में मुख्यमंत्री रहे और उन्होंने जमकर लूट खसोट की,इसलिए उनको लूट ही लूट दिख रही है। उन्होंने कहा कि रामायण में कहा गया है जाकि रही भावना जैसी प्रभु मूरत तिन्ह देखी तैसी। उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह को जनता ने सन्यास दे दिया है अब कांग्रेस से भी जल्दी ही मिल जाएगा। पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह द्वारा प्रदेश में फिर से सरकार बनाने के प्रश्र पर उन्होंने कहा कि अगर वह प्रदेश में फिर से सरकार बनाने की क्षमता रखते तो अपने चाचा को मंत्री क्यों नहीं बनाया,वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को क्यों सड़क पर उतरने के बात कही और मजबूर किया गया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के कर्मों के कारण प्रदेश में सरकार गिरी है अब कहां से सरकार बनाएंगे। पूर्वमंत्री गुप्ता ने प्रदेश में मंत्रीमंडल विभाग वितरण में देरी के प्रश्र पर कहा कि भाजपा में मथन की सहज प्रक्रिया है।

उपचुनाव में पूरी सीट जीतेंगे
उमाशंकर गुप्ता ने कहा कि प्रदेश सरकार की जन हितैषी नीतियों के चलते प्रदेश में 25 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में सभी सीटों में भाजपा उम्मीदवार विजय होंगे। इसके लिए भाजपा ने संगठन स्तर पर चुनाव की तैयारी शुरु कर दी है। पार्टी के छोटे बड़े कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी सौंप दी है। यू तो पार्टी का काम पूरे 365 दिन ही चलता है।

जंगल में अब तीसरा शेर नहीं होगा
दिग्विजय सिंह के एक जंगल में दो शेर के प्रश्र पर उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि एक जंगल में दो शेर तो रह सकते हैं लेकिन तीसरा शेर नहीं होगा।