Gwalior कलेक्टर की चेतावनी, खाद्यान्न वितरण लक्ष्य पूरा नहीं तो होगी संपत्ति जब्त

सख्त एतराज जताते हुए ग्वालियर कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने कहा 30 मार्च तक यदि 95 प्रतिशत से कम वितरण हुआ तो संबंधित उचित मूल्य की दुकान के प्रबंधक की खैर नहीं होगी।

मध्य प्रदेश

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ग्वालियर कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह (Gwalior Collector Kaushalendra Vikram Singh) ने शासकीय उचित मूल्य की दुकानों के संचालकों को चेतावनी दी है कि यदि 30 मार्च तक निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप पात्र परिवारों को राशन नहीं बँटा तो संबंधित उचित मूल्य की दुकान के प्रबंधक व विक्रेता की अचल सम्पत्ति जब्त करने की कार्रवाई की जायेगी। अर्थात इनकी अचल सम्पत्ति के खसरे के कॉलम नं.-12 में शास्ति दर्ज कर दिया जायेगा। ग्वालियर कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह  शनिवार को शासकीय उचित मूल्य की दुकानों के प्रबंधकों  की बैठक ले रहे थे।

बाल भवन में आयोजित हुई बैठक में ग्वालियर कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह (Gwalior Collector Kaushalendra Vikram Singh) ने खाद्यान्न वितरण समीक्षा के दौरान लक्ष्य के अनुरूप कम वितरण सामने आने पर सख्त नाराजगी जताई। बैठक में बताया गया कि गत 26 मार्च तक लगभग 80 प्रतिशत परिवारों को अब तक इस माह का खाद्यान्न वितरित हुआ है। नए पात्र परिवारों को इससे भी कम प्रतिशत राशन बँटा है। इस पर सख्त एतराज जताते हुए ग्वालियर कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने कहा 30 मार्च तक यदि 95 प्रतिशत से कम वितरण हुआ तो संबंधित उचित मूल्य की दुकान के प्रबंधक की खैर नहीं होगी।

Gwalior कलेक्टर की चेतावनी, खाद्यान्न वितरण लक्ष्य पूरा नहीं तो होगी संपत्ति जब्त Gwalior कलेक्टर की चेतावनी, खाद्यान्न वितरण लक्ष्य पूरा नहीं तो होगी संपत्ति जब्त

ये भी पढ़ें – विधायक का सवाल Lockdown में शराब की दुकानों को बंद करने का आदेश क्यों नहीं ?

ग्वालियर कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह (Gwalior Collector Kaushalendra Vikram Singh) ने इस संबंध में सभी अनुविभागीय दण्डाधिकारियों एवं तहसीलदारों को भी लिखित में निर्देश जारी कर हिदायत दी है कि वे अपने-अपने क्षेत्र में शतप्रतिशत पात्र परिवारों को खाद्यान्न का वितरण कराना सुनिश्चित करें। साथ ही जिन दुकान प्रबंधकों द्वारा इसमें ढिलाई बरती जाए उनकी अचल सम्पत्ति के खसरे के कॉलम नं.-12 में शास्ति दर्ज कर दिया जाए। बैठक में नगर निगम आयुक्त शिवम वर्मा तथा खाद्य विभाग के अधिकारी सहित विभिन्न उचित मूल्य की दुकानों के प्रबंधक व विक्रेता आदि मौजूद थे।