Gwalior News : सूनी रहेगी भाइयों की कलाई, सेन्ट्रल जेल में नहीं मनेगा रक्षाबंधन

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। भाई बहन के अटूट रिश्ते और प्यार के रक्षाबंधन (Rakshabandhan) का इन्तजार साल भर दोनों को रहता है, हालत कैसे भी हो बहन भाई की कलाई पर राखी जरूर बांधती है।  ग्वालियर सेन्ट्रल जेल में भी ये परंपरा बरसों से चली आ रही है।  लेकिन कोरोना के कारण पिछले दो साल से जेल में रक्षाबंधन नहीं मनाया जा रहा है  और इस बार भी जेल प्रशासन (Jail Administration) ने रक्षाबंधन निरस्त कर दिया है।

ग्वालियर सेन्ट्रल जेल (Gwalior central jail ) में रक्षाबंधन के मौके पर उत्सव जैसा माहौल रहता था, जेल में बंद कैदी भाइयों की कलाई पर  उनके माथे पर तिलक करने के लिए उनकी बहनें सेन्ट्रल जेल पहुँचती थी। रक्षाबंधन वाले दिन जेल में करीब चार से पांच हजार लोगों की भीड़ जुटती थी जिसके लिए जेल प्रशासन को अतिरिक्त सुरक्षा व्यवस्था करनी होती थी।  लेकिन कोरोना काल के कारण सरकार ने 2019 से मध्यप्रदेश की जेलों में मनाया जाने वाला रक्षाबंधन पर्व निरस्त कर दिया।

ये भी पढ़ें – MP Weather: मप्र के इन जिलों में अति भारी बारिश की चेतावनी, जानें अपने जिले का हाल

हालाँकि अभी कोरोना पिछले दो सालों की तरह अधिक प्रभावशील नहीं है लेकिन संभावित तीसरी लहार को देखते हुए सरकार ने इस बार भी रक्षाबंधन पर्व पर होने वाली मुलाकात और राखी बांधने का कार्यक्रम निरस्त कर दिया है।  ग्वालियर सेन्ट्रल जेल प्रशासन करीब 10 दिन पूर्व इसकी सूचना सार्वजनिक कर चुका है। जेल अधीक्षक मनोज कुमार साहू द्वारा निकाले गए आदेश के तहत रक्षाबंधन वाले दिन 22 अगस्त को कोई भी बहन जेल में बंद अपने भाई को राखी नहीं बांध सकेगी इतना ही नहीं इस दिन रविवार होने के कारण सामान्य मुलाकात भी नहीं हो सकेगी नहीं होगी।

ये भी पढ़ें – अजय विश्नोई का ट्वीट- उम्मीद है बाकी प्रदेश पर भी मुख्यमंत्री की नजर जल्द पड़ेगी

ग्वालियर सेन्ट्रल जेल अधीक्षक मनोज कुमार साहू के मुताबिक रक्षाबंधन वाले दिन बहन और भाइयों की खुली मुलाकात होती थी, बहनें घर का बना खाना और मिठाई लेकर आती थी, पूजा की थाली में राखी लती थी और भाई की कलाई पर बांधती थी उसके माथे पर तिलक करती थी और भाई की संकल्प दिलाती थी कि वो अपराध का रास्ता छोड़ देगा , लेकिन कोरोना के चलते सावधानी बरतते हुए इस खुली मुलाकात और रक्षाबंधन पर्व को निरस्त किया गया है उन्होंने कहा कि कुछ NGO की महिलाओं ने जेल में बंद कैदी भाइयों को राखी बांधने की इच्छा जताई है तो जेल प्रबंधन इसकी व्यवस्था करेगा। इसमें भी कोरोना प्रोटोकॉल का ध्यान रखा जायेगा।

ये भी पढ़ें – मोदी सरकार के खिलाफ एकजुट होकर प्रदर्शन करेंगे 19 विपक्षी दल, सोनिया की बैठक में बनी रणनीति