गणतंत्र दिवस पर ग्वालियर सेन्ट्रल जेल से 20 बंदियों को मिली आजादी, अच्छे आचरण का मिला इनाम

Republic Day 2023 : आज देश अपना 74 वां गणतंत्र दिवस मना रहा है,  देश और प्रदेश के लोगों में उत्साह है, वे खुशियाँ मना रहे हैं, ये विशेष अवसर जेल में बंद अपने अपराधों की सजा भुगत रहे बंदियों के लिए भी खुशियाँ लेकर आया, ग्वालियर सेन्ट्रल जेल में बंद 20 बंदियों को इस विशेष अवसर पर रिहा किया गया।

ग्वालियर सेन्ट्रल जेल में बंद हत्या सहित अन्य गंभीर अपराधों के सजा भुगत रहे बंदियों को जेल में बिताये उनके दिन और इस दरमियान उनके अच्छे आचरण का तोहफा मिला है, 15 अगस्त और 26 जनवरी जैसे विशेष मौकों पर नियमानुसार दी जाने वाली रिहाई का मौका बंदियों को मिला और वे जेल की चार दिवारी से बाहर आ गए।

ग्वालियर सेन्ट्रल जेल के अधिकारियों ने बताया कि आज 20 बंदियों को रिहाई हुई है इनमें से 17 बंदी ऐसे हैं जिन्हें आजीवन कारावास की सजा हुई थी जबकि तीन बंदी छोटी सजा वाले है जिन्हें आज रिहा किया जा रहा है, उन्होंने कहा कि इन सभी के  अच्छे  चाल चलन की देखते हुए 6 साल की माफी भी दी गई है ।

गणतंत्र दिवस पर ग्वालियर सेन्ट्रल जेल से 20 बंदियों को मिली आजादी, अच्छे आचरण का मिला इनाम

जेल अधिकारियों ने कहा कि सभी को सर्टिफिकेट देकर माफ़ी दी गई है और इन्हें समझाइश देकर कहा गया है कि बाहर निकलकर समाज में अच्छे कम करें जिससे इनका सामाजिक जीवन सुधर सके। उधर बंदियों ने भी कहा कि हमसे जो अपराध हुआ उसकी सजा हमने भुगत ली है अब हम अच्छा जीवन जीना चाहते हैं।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ....पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News