ग्वालियर।अतुल सक्सेना।

वैश्विक महामारी घोषित हो चुके कोरोना वायरस को पराजित कर रविवार को ही घर लौटे अभिषेक ने पीएम नरेंद्र मोदी के आह्वान पर अपने घर पर पत्नी और परिवार के साथ दीपक जलाया। अभिषेक ने उम्मीद जताई कि भारत कोरोना को हराएगा और पूरे देश में हो रही रोशनी उसी खुशहाली का आगाज है।

गौरतलब है कि चेतकपुरी निवासी अभिषेक मिश्रा ग्वालियर के पहले कोरोना पॉजिटिव मरीज हैं उन्हें 21 मार्च को जिला अस्पताल मुरार में भर्ती किया गया था उनकी पहली रिपोर्ट 24 मार्च को आई और वो कोरोना संक्रमित हो गए थे। अभिषेक प्राईवेट कंपनी में एरिया मैनेजर के पद पर कार्यरत हैं। टूर उनकी जॉब का हिस्सा है और इसी के चलते खजुराहो में होटल में रुकने के दौरान कोरोना की चपेट में आ गए थे। 24 मार्च के बाद अभिषेक को जयारोग्य अस्पताल भेज दिया गया। जहाँ सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में उसे भर्ती किया गया । उपचार के दौरान तीन बार सेम्पल जाँच के लिए भेजे गए और तीनों रिपोर्ट नेगेटिव आई। यानि अभिषेक ने इलाज और अपने हौसले से कोरोना को परास्त कर दिया। रविवार को अभिषेक को अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया और रविवार की ही रात नौ बजे अभिषेक मिश्रा ने पीएम नरेंद्र मोदी के देशव्यापी आह्वान पर पत्नी सुमन के साथ घर पर दीपक जलाएं।

अभिषेक ने कहा है कि लोग हौसला रखें, सकारात्मक रहें, योग करते रहें। हमारा आत्मविश्वास मज़बूत है इसलिए हम भारतीयों का बीमारी कुछ नहीं बिगाड़ पाएगी। अभिषेक ने अपील की है कि यदि किसी को सर्दी-जुकाम है तो वह अपने आपको परिवार से अलग कर ले, सावधान रहे और डॉक्टर को दिखाये। अभिषेक ने लॉक डाउन का पूरी तरह से पालन करने की अपील भी की। अभिषेक ने पीएम मोदी के अभियान की सराहना की और कहा कि दीपक जलाना, खुशहाली का प्रतीक है आज इससे भारतवासियों की एकजुटता का प्रमाण भी मिल गया कि संकट की घड़ी में पूरा देश एकसाथ खड़ा है। अभिषेक ने भरोसा जताया कि हम कोरोना को हराएंगे और उसी खुशहाली का ये आगाज है।