पवैया की चेतावनी के बाद बैकफुट पर प्रशासन, “अटल” रहेगा “ग्वालियर गौरव दिवस”

Gwalior Gaurav Divas : ग्वालियर के सपूत भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी  (Atal Bihari Vajpayee) के जन्म दिन 25 दिसंबर को “ग्वालियर गौरव दिवस” (Gwalior Pride Day) मनाये जाने पर छाया कुहासा पूर्व मंत्री जय भान सिंह पवैया की नाराजगी के बाद छट गया है, आज शुक्रवार को दिन में पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया (Jai Bhan Singh Pawaiya) ने नाराजगी भरी और चेतावनी देती हुई पोस्ट सोशल मीडिया पर की इसके बाद खलबली मच गई और आनन फानन में कलेक्टर ने प्रेस कांफ्रेस कर इस बात की घोषणा की कि अटल जी के जन्मदिन पर 25 दिसंबर को “ग्वालियर गौरव दिवस”(Gwalior Gaurav Divas) मनाया जायेगा वो भी महाराज बाड़े पर ही मनाया जायेगा।

कलेक्टर ने सफाई में ये कहा

कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने सफाई देते हुए कहा कि हमने कार्यक्रम निरस्त नहीं किया था सर्दी को देखते हुए उसका स्थान परिवर्तन किया था, लेकिन अब फीडबैक मिला है कि सर्दी इतनी नहीं है तो कार्यक्रम महाराज बाड़े पर ही होगा, उन्होंने शहर के लोगों से बढ़ चढ़कर इसमें हिस्सा लेने की अपील की है

“हमारे अटल प्यारे अटल” कवि सम्मेलन होगा

कलेक्टर ने बताया कि शाम को महाराज बाड़े पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में अखिल भारतीय कवि सम्मेलन “हमारे अटल प्यारे अटल” होगा, प्रख्यात सरोद वादक अमजद अली खां और उनके बेटों अमान और अयान अली खां  का सरोद वादन होगा, अनुराधा पौडवाल और सारेगा मा के कलाकारों की प्रस्तुति होगी और कुछ चुनिन्दा लोगों को अटल सम्मान, ग्वालियर गौरव सम्मान दिया जायेगा।

सीएम शिवराज, केंद्रीय मंत्री सिंधिया, तोमर होंगे शामिल

उन्होंने बताया कि इन कार्यक्रमों में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan), केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Union Minister Jyotiraditya Scindia) , केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Union Minister Narendra Singh Tomar) सहित मध्य प्रदेश सरकार के कई मंत्री और अन्य जन प्रतिनिधि शामिल होंगे, कलेक्टर ने कहा कि ग्वालियर गौरव दिवस पर सम्मिलित होकर शहर के लोग गौरव का अनुभव करें यही हमारा प्रयास है ।

पवैया ने फेसबुक पोस्ट लिखकर जाहिर की वेदना

भाजपा के प्रखर नेता, अटल जी और राजमाता सिंधिया को अपना आदर्श मानने वाले पूर्व मंत्री जय भान सिंह पवैया (Jai Bhan Singh Pawaiya) ने इसपर कड़ी आपत्ति जताई है उन्होंने फेसबुक एक पोस्ट कर अपनी नाराजगी जाहिर की है, पवैया ने लिखा – ग्वालियर गौरव दिवस, भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) जी के जन्म दिवस 25 दिसंबर को अब नहीं मनेगा, यह पढ़कर मन में वेदना हुई, इसके पीछे की मंशा क्या है?

अपने अंदाज में पवैया ने चेतावनी भी दी

उन्होंने आगे लिखा- स्वतंत्र भारत में ग्वालियर के जिस सपूत ने अखिल विश्व में हमारी यश पताका फहराई वह एक और सिर्फ एक अटल जी ही हैं, उनके कद की तुलना नहीं हो सकती , इसलिए ग्वालियर गौरव दिवस 25 दिसंबर को ही होना चाहिए, इसमें किन्तु परन्तु करके उस पुण्यात्मा का अनादर करने की चेष्टा न की जाये।

पवैया ने ट्वीट भी किया

जय भान सिंह पवैया ने ट्वीट में लिखा – ग्वालियर गौरव दिवस अब भारत रत्न श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के जन्म दिवस (25 दिसंबर) को नहीं होगा, यह समाचार मन को व्यथित करने वाला है। मेरा आग्रह है कि अखिल विश्व में ग्वालियर की यश-पताका के वाहक अटल जी की जन्म जयंती को ही गौरव दिवस मनाया जाये। इसमें ही हमारा गौरव होगा। ग्वालियर में मीडिया से बात करते हुए पवैया ने कहा कि ऐसा विचार क्यों और किसके मन में आया कि ग्वालियर गौरव दिवस अटल जी के जन्म दिवस की जगह और किसी दिन मना लेंगे ये आज नहीं तो कल पता चल ही जायेगा?

ग्वालियर से अतुल सक्सेना की रिपोर्ट