ग्वालियर। क्राइम ब्रांच पुलिस ने सायबर सेल के साथ मिलकर एक ऐसे शातिर युवक को गिरफ्तार किया है जिसने संभाग आयुक्त को हाईकोर्ट जज बनकर एक शस्त्र लायसेंस जारी करने  अनुरोध किया था। पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन में पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि संभाग आयुक्त एम बी ओझा ने उन्हें पत्र लिखकर जानकारी दी थी कि 7 जनवरी को उन्हें मनीष शर्मा नामक युवक ने  जबलपुर हाईकोर्ट में पदस्थ जज विवेक शर्मा द्वारा भेजा जाना बताया और शस्त्र लायसेंस जारी करने के संबंध मिलने के लिए कहा। उसने मोबाइल नंबर 9425108965 पर बात कराई । फोन पर संबंधित व्यक्ति ने खुद को जस्टिस शर्मा बताया और आवेदक मनीष शर्मा के शस्त्र लायसेंस  प्रकरण को पास करने की सिफारिश की। बात होने के बाद संभाग आयुक्त कार्यालय। नेजब पता किया तो जबलपुर से बताया गया कि यहां हाईकोर्ट में विवेक शर्मा नाम के जज नहीं हैं।  संभाग आयुक्त का पत्र मिलने के बाद उन्होंने एडिशनल एस पी क्राइम पंकज पांडे और सीएसपी क्राइम रत्नेश तोमर को कार्रवाई। केलिए निर्देशित किया । जिनके निर्देशन मे टी आई क्राइम ब्रांच थाना दामोदर गुप्ता ने सायबर सेल के नोडल अधिकारी इंस्पेक्टर पंकज त्यागी ने बारीकी से तफ्तीश कर  मुखबिर की सूचना पर आज मनीष शर्मा को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी मनीष शर्मा उर्फ अजय शंकर त्यागी महादजी नगर चिरवाई नाका थाना कंपू रहने वाला है। पुलिस उससे कड़ी पूछताछ कर रही है कि उसने ऐसा क्यों किया और क्या वी इससे पहले भी ऐसा कर चुका है?