टेकनपुर में हुआ बुरा हादसा, घोड़े की टक्कर से हुई बीएसएफ़ जवान की मौत, सीमा विवादों में उलझी 3 थानों की पुलिस, जानें पूरा मामला

सीमा सुरक्षा बल अकादमी टेकनपुर में 14 से 26 नवंबर के बीच 41वीं चैंपियनशिप का आयोजन किया जा रहा है, सभी तैयारियां पूरी कर ली गई थी। टेंट पेगिंग गेम की प्रैक्टिस चल रही थी, इसी दौरान पुणे महाराष्ट्र के रहने वाले आरक्षक की टक्कर घोड़े से हुई और उसकी मौत हो गई।

ग्वालियर, डेस्क रिपोर्ट। सीमा सुरक्षा बल अकादमी  टेकनपुर (Tekanpur) में कल 14 नवंबर से होने वाली 41वीं  अखिल भारतीय पुलिस घुड़सवार चैंपियनशिप एवं माउंटेन पुलिस ड्यूटी मीट के दौरान प्रैक्टिस कर रहे एक जवान की घोड़े की टक्कर से मौत हो गई, उसे घायल अवस्था में बीएसएफ के अस्पताल में ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।मृतक जवान पुणे महाराष्ट्र निवासी है और अकाडेमी की हॉर्स विंग में पदस्थ था।

यह भी पढ़ें…MP: राज्य सरकार की बड़ी तैयारी, बदलेगा भर्ती नियम, वित्त विभाग को भेजा प्रस्ताव, भरे जाएंगे 1 लाख पद

बता दें कि सीमा सुरक्षा बल अकादमी टेकनपुर में 14 से 26 नवंबर के बीच 41 वी चैंपियनशिप का आयोजन किया जा रहा है, जिसके चलते सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गई थी। आज टेंट पेगिंग गेम की प्रैक्टिस चल रही थी। इसी दौरान पुणे महाराष्ट्र का रहने वाला आरक्षक जीडी थोराट सुधीर पंधारीनाथ पुत्र थोराट पंधारी नाथ मारुत उम्र 33 वर्ष निवासी ग्राम चंदौली बीके थाना मंचार तहसील अंबेगांव जिला पुणे महाराष्ट्र हाल निवास इक्यूटेशन स्कूल बीएसएफ अकाडेमी टेकनपुर रेजीमेंट नंबर 150700272 घोड़े के सामने आ गया, जिससे घोड़े का पैर उसके सिर से जा लगा। जिससे बाद जवान गंभीर रूप से घायल हो गया, तत्काल उसे अकादमी के अस्पताल में ले जाया गया। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें…Ujjain: रुद्रसागर पर पैदल पुल का निर्माण हुआ शुरू, लेजर और साउंड शो बढ़ाएगा भव्यता

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जिस जगह घटना हुई उसके कारण तीन थानों की पुलिस सीमा विवाद में उलझी रही। पिछोर, बिलौआ और डबरा थाने की पुलिस यह तय कर नहीं पा रही थी किस थाना क्षेत्र में घटना घटित हुई है सीमा विवाद के चलते शव पीएम कराने में काफी देरी हुई बाद में टेकनपुर चौकी प्रभारी देवेंद्र लोधी को जिम्मेदारी दी गई और उन्होंने शव को पीएम कराने के लिए भेजकर मामला दर्ज कर लिया है। अकाडेमी में हुई इस घटना से खिलाड़ियों का मनोबल भी कम हुआ है क्योंकि कल से प्रतियोगिता शुरू होनी है और सभी को बेहतर प्रदर्शन करना है, ऐसे में किसी अपने का हादसे का शिकार हो जाने से सभी को लोग दुखी हैं।