बदमाश भीमा के दो मददगार पुलिस पकड़ में, सामान जब्त

badmash-bheema-ke-madadgar-pakde-gaye

ग्वालियर । भिंड से पेशी कराकर भोपाल लौट रहे हत्या के आरोपी भीमा उर्फ़ जितेन्द्र यादव को 7 दिसंबर को उसके भाई फौजी ने पुलिसकर्मियों की आँख में मिर्ची डालकर छुड़ा लिया था तभी से वो फरार है। पुलिस उसका अभी तक पता नहीं लगा सकी है लेकिन शुक्रवार को पुलिस ने भीमा के दो साथियों को गिरफ्तार किया है। 

भीमा यादव फरारी मामले की जांच कर रहे महाराजपुरा थाने के टीआई यदुवीर सिंह तोमर को शुक्रवार को मुखबिर से सूचना मिली कि भीमा उर्फ जितेंद्र यादव और उसके साथियों को जरुरत का सामान, कपड़े और खाने पीने की वस्तुएं  पहुँचाने वाले दो व्यक्ति खेरिया मिर्धा गाँव में बंद पड़े भड़ाना क्रेशर के पास फूटे कमरों के आसपास देखे गए हैं। जानकारी मिलते ही पुलिस तत्काल सक्रिय हुई और पुलिस बल के साथ दोनों व्यक्तियों की घेराबंदी कर दी।  पुलिस को देखकर दोनों ने भागने का प्रयास किया लेकिन पुलिस ने उन्हें  दबोच लिया। पकड़े गए व्यक्तियों ने अपने नाम गजराज सिंह यादव निवासी  इटावा उत्तरप्रदेश और रामू उर्फ रामवीर सिंह यादव निवासी धौलपुर राजस्थान बताये।  पूछताछ  में आरोपियों ने बताया कि  वो ये सामान भीमा और उसके साथियों को देने वाले थे।   पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर पूछताछ तेज कर दी है।  

  गौरतलब है कि होमगार्ड सैनिक की हत्या के मामले में भोपाल से भिंड पेशी पर आये बदमाश भीमा यादव को उसके भाई फौजी ने 7 दिसंबर को महाराजपुरा थाना क्षेत्र में लक्ष्मणगढ़ की पुलिया के पास से साथियों के साथ फिल्मीं अंदाज में पुलिस कस्टडी से छुड़ा लिया और आसानी से भाग गए।  बदमाशों ने प्रधान आरक्षक मायाराम, आरक्षक हाकिम खान,आरक्षक विवेक शर्मा की आँख में मिर्ची झोंकी और उनकी दो इंसास रायफल लूटी और फरार हो गए।  जबकि मौके से एक अन्य आरक्षक प्रमोद यादव भाग गया जो अगले दिन वापस आ गया और उसने बताया कि वो डर कर भाग गया था और भोपाल पहुंचकर जब साथियों से बात की तब ग्वालियर वापस आ गया।  पुलिस ने जब प्रमोद से और पूछताछ की तो उसने अपने अपहरण की भी कहानी सुनाई कि  बदमाश उसे अपने साथ गाड़ी में ले गए और रास्ते में गन पॉइंट पर लेकर भगा दिया और वो अपने साथियों के पास पहुंच गया।  हालाँकि पुलिस को प्रमोद की कहानी पर शंका है। एसपी ग्वालियर नवनीत भसीन ने बदमाशों के ऊपर 10 हजार रुपये का इनाम घोषित कर दिया है। और उसकी गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे हैं। पुलिस ने अभी तक भीमा को गिरफ्तार नहीं किया है लेकिन उसको फरार करने में उपयोग की गई दो चार पहिया वाहन को जब्त कर चुकी है। पुलिस अधिकारियों ने जल्दी ही भीमा यादव को गिरफ्तार करने का भरोसा दिलाया है।