BJP-and-RSS-keep-eye-on-party-rebellion-

भोपाल। लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा ने पार्टी के अंदर के जयचंदों पर पैनी नजर रखना शुरू कर दिया है। कई सीटों पर टिकट कटने से नाराज दावेदार प्रचार से दूरी बनाए हैं।  वहीं विगत विधानसभा चुनाव में पार्टी प्रत्याशियों के खिलाफ खुलकर काम करने वाले जयचंदों पर लोकसभा चुनाव में संघ और भाजपा की पैनी नजर है। संघ इन भितरघातियों की हर गतिविधि को देख रही है।

गौरतलब है कि विगत विधानसभा चुनाव में भाजपा में हर विधानसभा में जमकर भितरघात देखने को मिला था। जिसके चलते कई प्रत्याशियों की नैया डूब गई तो कुछ बच निकले। इन जयचंदों को लेकर हर विधानसभा में भाजपा प्रत्याशियों ने नाम और साक्ष्य सहित लिस्ट पार्टी को सौंपी थी कि इन भितरघातियों को पार्टी से बाहर किया जाए नहीं तो आगामी लोकसभा चुनाव में भी ये जयचंद पार्टी को नुकसान पहुंचाएंगे। लेकिन पार्टी ने आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए कार्रवाई नहीं की। पार्टी का मानना था कि इन भितरघातियों को लोकसभा चुनाव में एक ओर मौका दिया जाए।

पार्टी सूत्रों की मानें तो पार्टी ने हर विधानसभा में कौन-कौन पार्टी प्रत्याशी के समर्थन में काम कर रहा है और कौन भितरघात, इसको लेकर स्वयं संघ मॉनीटरिंग कर लिस्ट तैयार कर रहा है। वहीं विधानसभा चुनाव में भितरघात करने वाले उन जयचंदों पर भी पार्टी की पैनी नजर है जो कि लोकसभा चुनाव में भी शांत नहीं बैठे हैं और भितरघात कर रहे रहैं। सूत्रों की मानें तो संघ की एक टीम ऐसे पदाधिकारियों की हर गतिविधियों पर नजर लगाए है जो कि चुनाव में प्रचार-प्रसार नहीं कर रहे हैं या कहें कि प्रचार सिर्फ दिखावे के लिए कर रहे हैं। संघ एक-एक कार्यकर्ता और पदाधिकारियों पर नजर लगाए हुए हैं। साथ ही ऊपर से हर पदाधिकारी और कार्यकार्ता का फीडवैक दिया जा रहा है। सूत्रों की मानें तो विधानसभा चुनाव के बाद यदि इन जयचंदों ने एक बार फिर लोकसभा चुनाव में भितरघात कर पार्टी को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की तो इन जयचंदों को पार्टी से बाहर का रास्ता भी दिखाया जा सकता है।