अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझी, प्रेमी ने ही मारकर आग लगाई, सेप्टिक टैंक में फेंका

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। दो दिन पहले मिले अधजले कंकालनुमा शव की गुत्थी को पुलिस ने सुलझा लिया है और इस अंधे कत्ल के आरोपी को भी गिरफ्तार कर लिया हैं। तफ्तीश के बाद कंकाल महिला का निकला और जब पुलिस ने घटनास्थल से सुबूत जुटाए तो आरोपी महिला का कथित प्रेमी ही निकला। खास बात ये है कि घटना के बाद महिला के परिजन के साथ जाकर आरोपी ने ही महिला की गुमशुदगी दर्ज कराई।

शनिवार को शाम झांसी रोड थाना क्षेत्र में स्थित साइंस कॉलेज के परिसर में ओल्ड बॉयज हॉस्टल के पास बने सेप्टिक टैंक में एक कंकालनुमा शव मिला था। शव की हालत देखकर ये पता लगा पाना संभव नहीं था कि कंकालनुमा शव महिला का है या पुरुष का। पुलिस ने अपनी तफ्तीश शुरू की। फॉरेंसिक एक्सपर्ट बुलाये डॉग स्क्वॉड बुलाया और जब घटनास्थल की पड़ताल की गई तो जो सुबूत मिले उससे पता चला कि शव महिला का है पुलिस ने अपनी पड़ताल तेज की और सुबूत जुटाते हुए ना सिर्फ मृतका के घर तक पहुँच गई बल्कि आरोपी को भी गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस अधीक्षक अमित सांघी ने बताया कि पुलिस को जब घटना स्थल से बिछिया, पायल (तोड़िया) और सलवार सूट का कुछ हिस्सा मिला । पीएम के बाद मालूम चला कि शव 30 से 32 वर्षीय महिला का है। पुलिस ने पिछले 15 दिन में गुम हुई 30 वर्ष के आसपास की महिलाओं की फाइल तलाशी तो इनकी संख्या 12 निकली। पुलिस इन महिलाओं के घर पहुंचते-पहुंचते पुलिस की टीम उपनगर ग्वालियर के जहांगीर कटरा निवासी यशोदा शाक्य के घर पहुंची। यहां पता लगा कि 8 फरवरी को यशोदा की 29 वर्षीय बेटी बाजार की कहकर निकली थी तभी से लापता है। जब पुलिस ने स्पॉट से मिले गहने और कपड़े दिखाये तो यशोदा ने उनकी शिनाख्त अपनी बेटी नीलम शाक्य के गहने और कपड़े के रूप में की। मृतका तक पहुँचने के बाद जब पुलिस ने यशोदा से पूछताछ की तो मालूम चला का कि मृतका कुछ समय पहले अपने पति से तलाक हो चुका है और एक व्यक्ति से उसके संबंध हैं। पुलिस ने शक के आधार पर युवक को उठा लिया। और जब पुलिस ने अपने अंदाज में पूछताछ की तो आरोपी ने अपना गुनाह कुबूल कर लिया।

एसपी अमित सांघी ने बताया कि आरोपी के मृतका से संबंध थे । उसका किसी बात पर 8 फरवरी को मृतका से झगड़ा हुआ और गुस्से में उसने गला दबाकर हत्या कर दी फिर दोस्त की मोटर साइकिल से शव को बोरे में रखकर रात को साइंस कॉलेज के पीछे ले गया और पेट्रोल डालकर आग लगा दी दूसरे दिन सुबह शव को सेप्टिक टैंक में फेंक दिया। उसके बाद अगले दिन यानि 9 फरवरी को मृतका की माँ के साथ ग्वालियर थाने जाकर गुमशुदगी दर्ज कराई और लगातार ये दर्शाता रहा कि उसे मृतका की चिंता है। लेकिन पुलिस ने उसके मंसूबे पर पानी फेर दिया और अंधे कत्ल का पर्दाफाश कर दिया। आरोपी ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है।

MP Breaking News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here