केंद्र सरकार ने मप्र को दिया तोहफा, छोटे किसानों को मिलेगा इसका लाभ

ग्वालियर कृषि महाविद्यालय में ग्वालियर, सीहोर और मुरैना के लिए इंक्यूबेशन सेंटर्स स्थापित किये जायेंगे।

ग्वालियर, डेस्क रिपोर्ट। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की सरकार ने किसानों के हित में एक और कदम बढ़ाते हुए मध्य प्रदेश (MP News) को सौगात दी है। प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उन्नयन योजना के तहत फ़ूड प्रोसेसिंग के क्षेत्र में क्षेत्र में किसानों की आय बढ़ाने के लिए इंक्यूबेशन सेंटर (incubation center) स्थापित किये जा रहे हैं। केंद्र सरकार ने मध्य प्रदेश को सौगात देते हुए तीन केंद्रों को मंजूरी दी है। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने इसका भूमिपूजन किया, कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) वर्चुअली शामिल हुए।

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने आज रविवार को ग्वालियर में कृषि महा विद्यालय में तीन इंक्यूबेशन सेंटर (incubation center) के लिए भूमिपूजन किया। कृषि महा विद्यालय में स्थापित ये केंद्र कृषि महाविद्यालय ग्वालियर, सीहोर और मुरैना के लिए काम करेंगे।  भूमिपूजन के मौके पर केंद्रीय मंत्री तोमर के अलावा मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल, राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह, ग्वालियर महापौर विवेक नारायण शेजवलकर सहित राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्व विद्यालय के वाइस चांसलर श्री राव और अन्य अधिकारी मौजूद थे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इस कार्यक्रम में वर्चुअली शामिल हुए।

ये भी पढ़ें – कर्मचारियों को जल्द मिलने वाली है गुड न्यूज! सैलरी में होगा 50 हजार तक इजाफा, जानें कैसे

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि  हमारे किसान खेती में नये कीर्तिमान स्थापित कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपनों को साकार कर रहे हैं। पारंपरिक फसलों के साथ फल, मसाले की पैदावार मध्यप्रदेश में हो रही है। यदि फूड प्रोसेसिंग पर ध्यान दिया जाए, तो किसानों की आय बढ़ सकती है। इस दिशा में आगे बढ़ रहा है। फूड प्रोसेसिंग बढ़ाकर प्रधानमंत्री जी का सपना पूरा कर सकते हैं। 

ये भी पढ़ें – WEATHER UPDATE : इन राज्यों में धूल भरी आंधी की चेतावनी, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि हमारे किसानों को पर्याप्त सुविधाएं, संसाधन, ऋण आदि उपलब्ध करा दिया जाए, तो मेरा विश्वास है कि यह चमत्कार करके दिखा सकते हैं। ग्वालियर, मुरैना और सीहोर के यह तीन इनक्यूबेशन सेंटर इस दिशा में महत्वपूर्ण साबित होंगे। उन्होंने कहा कि फूड प्रोसेसिंग के क्षेत्र में यह नई क्रांति की शुरुआत है। भूमिपूजन के बाद जब तक ये केंद्र बनकर तैयार होते हैं, तब तक किसानों को फूड प्रोसेसिंग के संदर्भ में प्रशिक्षित करने हेतु कार्यशाला आयोजित करें, जिससे किसानों को अधिक से अधिक जानकारी मिल सके।

ये भी पढ़ें – MP Politics: जब साथ रहे कमलनाथ, तब दिग्विजय सिंह की सीएम शिवराज सिंह से बात

उधर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि भारत सरकार कृषि एवं सम्बद्ध क्षेत्रों में सुविधाएँ प्रदान करने और रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिए, किसानों की आमदनी बढ़े इसके प्रयास करती रहती है। इसी क्रम में छोटी फ़ूड प्रोसेसिंग यूनिट्स को बढ़ाने के लिए योजनाएं शुरू की हैं। सरकार ने 10 हजार करोड़ के फंड का प्रावधान इसके लिए किया है।  केंद्रीय मंत्री ने कहा कि छोटी छोटी फ़ूड प्रोसेसिंग यूनिट्स को बढ़ाने के लिए इंक्यूबेशन सेंटर (incubation center) बनाये जा रहे हैं इसके माध्यम  से किसानों को टेक्नोलॉजी की जानकारी भी दी जाएगी, आर्थिक मदद दी जाएगी, ट्रेनिंग भी दी जाएगी। इसका लाभ किसानों को मिलेगा।