सीएम शिवराज की बड़ी घोषणा, अहिल्याबाई के जन्म-दिवस पर ऐच्छिक अवकाश रहेगा, पाल, बघेल और धनगर समाज के कल्याण के लिये बोर्ड गठित होगा

Gwalior News :  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan)  ने आज शनिवार को ग्वालियर दौरे में कई बड़ी घोषणाएं की, उन्होंने कहा कि माँ अहिल्याबाई होल्कर का ग्वालियर में भव्य स्मारक बनाया जायेगा । बेहटा में बन रहे बस स्टेण्ड का नाम भी अहिल्याबाई होल्कर के नाम पर रखा जायेगा। इसके साथ ही बघेल और धनगर समाज के कल्याण के लिये प्रदेश में एक बोर्ड गठित किया जायेगा। जिसके अध्यक्ष को कैबिनेट मंत्री का दर्जा होगा। सीएम शिवराज ने बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि लोकमाता अहिल्याबाई के जन्मदिवस पर प्रदेश में एच्छिक अवकाश रहेगा।

सीएम शिवराज की बड़ी घोषणा, अहिल्याबाई के जन्म-दिवस पर ऐच्छिक अवकाश रहेगा, पाल, बघेल और धनगर समाज के कल्याण के लिये बोर्ड गठित होगा

मुख्यमंत्री ने खाई लोकमाता अहिल्याबाई होल्कर की चरणों की सौगंध 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ग्वालियर की ग्रामीण विधानसभा में बेहटा में शनिवार को पाल, बघेल व धनगर समाज के सम्मेलन को संबोधित किया उन्होंने कहा है कि हम सब लोकमाता अहिल्याबाई होल्कर के वंशज हैं। उन्होंने लोक कल्याण के लिये जो कार्य किए हैं उन्हें कभी भुलाया नहीं जा सकता। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं लोकमाता अहिल्याबाई होल्कर के चरणों की सौगंध खाकर कहता हूँ की बघेल समाज के कल्याण के लिये कोई कोर कसर नहीं छोडूँगा।

सीएम शिवराज की बड़ी घोषणा, अहिल्याबाई के जन्म-दिवस पर ऐच्छिक अवकाश रहेगा, पाल, बघेल और धनगर समाज के कल्याण के लिये बोर्ड गठित होगा

देवी अहिल्याबाई का सुशासन का जो मंत्र आज भी लोगों की यादों में : शिवराज 

उन्होंने कहा कि पढ़ाई के लिये मेधावी छात्रवृत्ति के साथ पाल, बघेल समाज के छात्र-छात्राओं को मेडीकल एवं इंजीनियरिंग की शिक्षा के लिये भी सभी सुविधायें उपलब्ध कराई जायेंगीं। उन्होंने कहा कि मेडिकल, इंजीनियरिंग की शिक्षा हिंदी भाषा में शुरू होने से पाल, बघेल एवं गरीब समाज के छात्रों को इसका लाभ मिलेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि देवी अहिल्याबाई ने देश एवं दुनिया में सुशासन का जो मंत्र दिया, उनके कार्यों को आज भी याद किया जाता है।

सीएम शिवराज की बड़ी घोषणा, अहिल्याबाई के जन्म-दिवस पर ऐच्छिक अवकाश रहेगा, पाल, बघेल और धनगर समाज के कल्याण के लिये बोर्ड गठित होगा

देवी अहिल्याबाई होल्कर के न्याय और बलिदान के कार्यों को देश भुला नहीं पायेगा : तोमर

 

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि हमारे देश में त्याग, तपस्या और बलिदान की पूजा होती है। न्याय और कर्म की पूजा होती है। देवी अहिल्याबाई होल्कर ने न्याय और बलिदान का जो कार्य किया है उसे यह देश भुला नहीं पाएगा। उन्होंने कहा कि ग्वालियर में बेहटा तिराहे पर माँ अहिल्या की प्रतिमा स्थापित हो जाने से यह तिराहा अब अहिल्या तीर्थ बन गया है। तोमर ने कहा कि देवी अहिल्याबाई होल्कर ने देश की आजादी में ही अग्रणी कार्य नहीं किया बल्कि काशी विश्वनाथ मंदिर की स्थापना का भी अनुकरणीय कार्य किया है। बघेल समाज के उत्थान के लिये भी मध्यप्रदेश सरकार अनेक कार्य कर रही है।

सीएम शिवराज की बड़ी घोषणा, अहिल्याबाई के जन्म-दिवस पर ऐच्छिक अवकाश रहेगा, पाल, बघेल और धनगर समाज के कल्याण के लिये बोर्ड गठित होगा

माता अहिल्याबाई ने अत्याचारियों के विरुद्ध लड़ाई लड़ी: सिंधिया

केंद्रीय नागरिक उड्डयन एवं इस्पात मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि पाल बघेल समाज के त्याग को देश की 140 करोड़ जनता कभी भूल नहीं पायेगी। उन्होंने अहिल्याबाई होल्कर के कार्य एवं सेवाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि मातृ शक्ति के रूप में उन्होंने विश्व में ही नहीं बल्कि पूरे ब्रम्हाण्ड में मिसाल पेश की। उन्होंने कहा कि माता अहिल्याबाई ने रणभूमि में नेतृत्व करते हुए अत्याचारियों के विरूद्ध लड़ाई लड़ी। माता अहिल्याबाई ने भारत की आर्थिक एवं आध्यात्मिक शक्ति को देश में प्रज्ज्वलित करने का काम भी किया। उन्होंने देश के विभिन्न स्थानों पर हिन्दू मंदिर व धर्मशालाओं का भी निर्माण कराया। श्री सिंधिया ने कहा कि पाल, बघेल व धनकर समाज से उनका खून का रिश्ता है। इस समाज से उनके पारिवारिक संबंध रहे हैं। उन्होंने कहा कि राजमाता विजयाराजे सिंधिया एवं कैलाशवासी माधवराव सिंधिया ने भी पाल बघेल समाज से कंधे से कंधा मिलाकर कार्य किए।

ग्वालियर से अतुल सक्सेना की रिपोर्ट 


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News