अव्यवस्था देख भड़के कलेक्टर, अनुपस्थित मिले कर्मचारियों का वेतन काटने के निर्देश

ग्वालियर। स्वच्छता अभियान का निरीक्षण करने निकले कलेक्टर अनुराग चौधरी आज अचानक रोशनी घर स्थित मप्र मध्यक्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के कार्यालय पहुंच गए।  कलेक्टर को यहाँ गंदगी सहित कई अव्यवस्थाएं मिली। इसके अलावा कार्यालय से कर्मचारी गायब थे । उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों को फटकार लगाते हुए गायब कर्मचारियों का एक दिन का वेतन काटने के निर्देश दिए और व्यवस्थाएं सुधारने के लिए सात दिन का अल्टीमेटम दिया।

शहर की सफाई व्यवस्था का जायजा लेने कलेक्टर अनुराग चौधरी गुरुवार को अपने अधीनस्थों के साथ निकले । इस दौरान जब वे रोशनी घर रोड से जा रहे थे तो अचानक उन्होंने अपनी गाड़ी मप्र मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के कार्यालय में मोड़ दी। यहाँ लगभग 11 बजे दफ्तर में कई कर्मचारी गायब मिले इसके साथ ही कार्यालय में गंदगी एवं अव्यवस्थित विद्युत कनेक्शन को देखकर कलेक्टर ने नाराजगी व्यक्त की। कलेक्टर श्री चौधरी ने कार्यालय में कई स्थानों पर अव्यवस्थित रिकॉर्ड और गंदगी देखकर अधिकारियों से कहा कि हम अपने घर को भी ऐसा ही रखते हैं क्या? कार्यालय में अव्यवस्थित तथा लूज विद्युत कनेक्शन देखकर कलेक्टर ने कहा कि विद्युत विभाग स्वयं ही प्रचार-प्रसार करता है कि कहीं पर भी विद्युत का लूज कनेक्शन न रखा जाए और लाइट के कनेक्शन व्यवस्थित रखे जाएं। इसके बाद भी स्वयं के कार्यालय में ही इतनी अव्यवस्थाएं आपत्तिजनक हैं। संबंधित अधिकारी तत्परता से इसे ठीक कराएं। कलेक्टर ने कर्मचारियों के गायब होने पर नाराज होते हुए  कहा कि जो भी कर्मचारी अनुपस्थित हैं उन्हें अवैतनिक किया जाए। निरीक्षण के दौरान कई कर्मचारी प्रोपर वेशभूषा में और साफ-सुथरे नहीं दिखे। उन्होंने अधिकारी और कर्मचारियों से कहा कि शासकीय कार्यालय में प्रोपर ड्रेस में आएं और निर्धारित समय पर आकर अपना कार्य करें। अव्यवस्था देख भड़के कलेक्टर श्री चौधरी ने कार्यालय की अलमारियों को खोलकर रिकॉर्ड देखा तो ज्यादातर स्थानों पर अव्यवस्थित रिकॉर्ड देखकर नाराजगी जताते हुए कहा कि कार्यालय को साफ-सुथरा और व्यवस्थित बनाएं। अधिकारियों ने कार्यालय को व्यवस्थित करने के लिए 7 दिन का समय मांगा। कलेक्टर ने कहा कि निर्धारित समय में कार्यालय व्यवस्थित करें। 7 दिन बाद पुन: निरीक्षण किया जायेगा। इसके बाद भी कार्यालय यदि अव्यवस्थित मिला तो संबंधित अधिकारी के विरूद्ध कार्रवाई की जायेगी। कलेक्टर ने बिजली कम्पनी के उप महाप्रबंधक  पी के जैन के कार्यालय का निरीक्षण किया और प्रभारी अधिकारी श्री जैन से कहा कि वे स्वयं ही अपने कार्यालय का नियमित निरीक्षण करें और कार्यालय को व्यवस्थित बनाएं। इस प्रकार का कार्यालय पाया जाना प्रभारी अधिकारी की लापरवाही दर्शाता है।  कलेक्टर के औचक निरीक्षण के बाद से बिजली कम्पनी के कार्यालय में हडकंप मच गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here