जल संरक्षण के प्रयासों का कलेक्टर ने किया निरीक्षण, अतिक्रमण के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश

Collector-inspects-water-conservation-efforts

ग्वालियर । शहर में चल रही विकास कार्यों की गतिविधियों,वृक्षारोपण और जल संरक्षण के लिए किये जा रहे प्रयासों का आज कलेक्टर ने अधिकारियों के साथ निरीक्षण किया। इस मौके पर उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि अतिक्रमण करने वालों के। साथ सख्ती से कार्रवाई की जाए।

भविष्य में शहरवासियों के लिए पेयजल और भूजल की समस्या नहीं हो इसके लिए जिला प्रशासन ने बारिश का पानी अधिक से अधिक रोककर जमीन में उतारने के लिए अक्षय जल संचय कार्यक्रम चलाया जा रहा है।  कार्यक्रम के तहत नगर निगम द्वारा आरटीओ कार्यालय स्थित पहाड़ी पर ट्रेंच बनाने का कार्य किया जा रहा है। नगर निगम की 13 जेसीबी मशीनों के माध्यम से पहाड़ी के चारों ओर ट्रेंच बनाई जा रहीं हैं । कलेक्टर अनुराग चौधरी एवं नगर निगम आयुक्त संदीप माकिन ने रविवार को जिले के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ इन कार्यों का अवलोकन किया। कलेक्टर ने कहा कि जल संरक्षण के लिए निगम द्वारा किया जा रहा यह कार्य सराहनीय है। इस तरह का कार्य शहर की सभी पहाड़ियों पर किया जाए। उन्होंने यह भी कहा कि अक्षय जल संचय कार्यक्रम के तहत पहाड़ियों पर जल संरक्षण के लिए बनाई जा रही ट्रेंच निर्धारित आकार की ही निर्मित क�� जाएं। ���ाथ ही इसके लिए निर्धारित तकनीक का भी उपयोग किया जाए गौरतलब है कि नगर निगम द्वारा गत दिनों शारदा बाल ग्राम की पहाड़ी पर भी अक्षय जल संचय कार्यक्रम के तहत ट्रेंच बनाने का कार्य किया गया है। इन ट्रेंचों के माध्यम से बरसात का पानी जो पहाड़ी से बहकर व्यर्थ चला जाता है, वह पानी ट्रेंचों में रूककर जलीय सतह के पानी को बढ़ा रहा है।

भ्रमण के दौरान कलेक्टर ने प्रधानमंत्री आवास योजना के निर्माण हेतु निगम को दी जाने वाली जमीनों को देखा । इसके साथ ही शासकीय भूमि पर अतिक्रमण की शिकायतों के स्थलों का भी अवलोकन कर अतिक्रमण तत्परता से हटाने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए हैं। श्री चौधरी ने क्षेत्र के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को निर्देशित किया है कि सरकारी भूमि पर जहां भी अतिक्रमण है उसको सख्ती से हटाने की कार्रवाई की जाए। अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई में पुलिस विभाग एवं नगर निगम के अमले का भी सहयोग लेकर प्रभावी कार्रवाई की जाए। उन्होंने हुरावली, सिटी सेंटर, फूटी कॉलोनी आदि क्षेत्र का भ्रमण कर शासकीय योजनाओं के लिए विभिन्न विभागों को उपलब्ध कराए जाने वाली भूमि का अवलोकन किया। कलेक्टर ने हुरावली नाले पर अतिक्रमण कर बाउण्ड्रीवॉल का निर्माण किए जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए राजस्व अधिकारियों को तत्काल जाँच कर अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए।  

खाद्य पदार्थों की जांच के लिए बनेगी प्रयोगशाला 

निरीक्षण  के दौरान कलेक्टर ने निर्देश  दिए कि खाद्य पदार्थों के लिए ग्वालियर में नई प्रयोगशाला निर्माण का प्रस्ताव भी शासन स्तर को भेजा जाए। इसके लिए ग्वालियर में उपयुक्त शासकीय भूमि का चयन कर शासन स्तर पर प्रस्ताव भेजें, ताकि खाद्य पदार्थों की प्रयोगशाला जो वर्तमान में भोपाल में है, उसकी एक शाखा ग्वालियर-चंबल संभाग के लिए ग्वालियर में स्थापित हो सके। 

हुरावली पहाड़ी पर वृक्षारोपण को देखा 

कलेक्टर श्री चौधरी ने कलेक्ट्रेट के पीछे हुरावली पहाड़ी पर सिटी फोरेस्ट विकसित करने के उद्देश्य से किए गए वृक्षारोपण का भी निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि इस पहाड़ी पर अधिक से अधिक पौधे रोपण का कार्य बरसात के मौसम में ही किया जाए, ताकि पहाड़ी पर सिटी फोरेस्ट विकसित हो सके। उन्होंने नगर निगम आयुक्त संदीप माकिन से कहा कि हुरावली पहाड़ी की तरह ही शहर की अन्य पहाड़ियों पर भी वृक्षारोपण का कार्य हाथ में लिया जाए। इसके साथ ही पहाड़ियों पर वृक्षारोपण के साथ-साथ एप्रोच रोड़ एवं साफ-सफाई का विशेष ध्यान दिया जाए, ताकि शहर की पहाड़ियां भी दर्शनीय स्थल बन सके । इसके अलावा कलेक्टर ने मैरिज गार्डन के निर्माण की अनुमति में भी सख्ती के निर्देश दिए कलेक्टर ने कहा कि मैरिज गार्डन बनाने की अनुमति से पहले पुलिस अधीक्षक, क्षेत्र के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व तथा नगर एवं ग्राम निवेश विभाग की सहमति भी अवश्य लेना होगी। निगम द्वारा तीनों लोगों से सहमति के उपरांत ही मैरिज गार्डन निर्माण की अनुमति दी जायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here