BJP की रणनीति से घबराई Congress अब अपने पार्षदों को लेकर धार्मिक यात्रा पर 

ग्वालियर नगर निगम के इतिहास में पहली बार सभापति पद के लिए बाड़ाबंदी देखने को मिल रही है।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। 34 पार्षदों को कल हरियाणा के रेवाड़ी स्थित हंस रिसोर्ट लेकर गई BJP ने रात होते होते कांग्रेस के खेमे में सेंध लगा दी और उनके समर्थन से जीते पार्षद को लेकर ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर भी हंस रिसोर्ट पहुँच गए। भाजपा की रणनीति से घबराई कांग्रेस (Congress) आज बुधवार को 29 पार्षदों को लेकर धार्मिक यात्रा पर निकल गई। समझा जा सकता है कि भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियों को क्रॉस वोटिंग का कितना डर सता रहा है।

ग्वालियर नगर निगम में सभापति (Gwalior Municipal Corporation Chairman) किस पार्टी का होगा ये कहना अभी मुश्किल है लेकिन भाजपा और कांग्रेस में जोर आजमाइश जारी है। भाजपा (Gwalior BJP) के पास 34 पार्षद हैं और ऊर्जा मंत्री ने कांग्रेस समर्थित पार्षद दीपक मांझी को पार्टी में शामिल कर संख्या को 35 कर दिया है। उधर कांग्रेस के 25 पार्षद जीतकर आये उसने 4 निर्दलीय पार्षदों को पार्टी में शामिल कर संख्या को 29 कर लिया। कांग्रेस (Gwalior Congress) का दावा है कि बीएसपी का पार्षद भी कांग्रेस के समर्थन में हैं।

इस सबके बीच ग्वालियर नगर निगम के इतिहास में पहली बार सभापति पद के लिए बाड़ाबंदी देखने को मिल रही है। भाजपा और कांग्रेस के नेता अपनी अपनी ताकत लगा रहे हैं। भाजपा जिला अध्यक्ष कमल माखीजानी वरिष्ठ नेतृत्व के कहने पर कल मंगलवार को 34 पार्षदों को लेकर AC बसों से दिल्ली के लिए कहकर निकले लेकिन 12 घंटे के थका देने वाले सफर के बाद पहुँच गए हरियाणा के रेवाड़ी के हंस रिसोर्ट।

ये भी पढ़ें – राखी से पहले साँची ने लॉन्च किये अपने नए उत्पाद, मंत्री ने कही बड़ी बात

महंगे रिसोर्ट में पहुंचकर भाजपा के पार्षदों की पूरी थकान दूर हो गई उन्होंने वहां महंगी और आलीशान सुविधाओं के बीच रात बिताई। सुबह जब उनकी आंख खुली तो उनके सामने ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर कांग्रेस समर्थित पार्षद दीपक मांझी से साथ खड़े थे।

भाजपा नेताओं के एक्शन को देखकर अब तक कॉन्फिडेंस में दिख रही कांग्रेस भी सहम गई। कांग्रेस विधायक डॉ सतीश सिकरवार, जिला अध्यक्ष डॉ देवेंद्र शर्मा, वरिष्ठ नेता अशोक सिंह सहित अन्य वरिष्ठ नेताओं ने गुपचुप मंत्रणा की और आज बुधवार को 29 पार्षदों को लेकर धार्मिक यात्रा का टूर बना लिया ।

ये भी पढ़ें – MP Govt Jobs 2022 : मप्र में 45000 पदों पर अलग-अलग विभागों में निकली है भर्ती, जानें आयु पात्रता और नियम, ऐसे करें आवेदन

जाते समय कांग्रेस विधायक डॉ सतीश सिंह सिकरवार (Congress MLA Dr Satish Singh Sikarwar) ने कहा कि हम सब भगवान की शरण में जा रहे हैं, हम उसकी कृपा से ही जीते हैं। उन्होंने कहा कि जहाँ जिला अध्यक्ष ले जायेंगे वहां हम सब जायेंगे। भाजपा की राह पर चलने के सवाल पर कांग्रेस विधायक ने कहा कि कांग्रेस किसी की राह पर नहीं है, अपनी राह पर है ।

जिला अध्यक्ष डॉ देवेंद्र शर्मा ने कहा कि हम सब लोग मां पीताम्बरा और  रामराजा सरकार के दर्शनों के लिए जा रहे हैं। ये कार्यक्रम हमारा पहले से ही तय था। उन्होंने कहा कि हम कल रात तक लौट आएंगे। उन्होंने कहा कि हमें किसी भी तरह का क्रॉस वोटिंग का डर नहीं है, ये डर तो भाजपा को है इसिलए वो इतनी दूर भाग गए। वरिष्ठ नेता अशोक सिंह ने कहा कि ये पार्षदों की इच्छा थी कि सभपति चुनाव से पहले धार्मिक यात्रा की जाये।  उन्होंने भी कहा कि किसी को क्रॉस वोटिंग का डर नहीं है।

ये भी पढ़ें – लोकायुक्त पुलिस ने सहकारिता निरीक्षक को 15,000 रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया

ग्वालियर नगर निगम महापौर की कुर्सी पर 57 साल से काबिज भाजपा को हटाने वाली कांग्रेस अब नगर निगम में अपना सभापति बनाने की हरसंभव कोशिश कर रही है। लेकिन महापौर पद जीतने के बाद से बाद से उत्साहित और कॉंफिडेंट कांग्रेस को उस समय झटका लगा जब भाजपा न सिर्फ अपने 34 पार्षदों को लेकर रेवाड़ी के आलीशान रिसोर्ट चली गई बल्कि उनकी पार्टी के समर्थन से जीते एक पार्षद को भी पार्टी में मिला लिया। ऐसे में कांग्रेस ने भाजपा को जवाब देने के लिए भगवान् की शरण में जाने का फैसला किया। अब देखना ये होगा कि भगवान् किसका साथ देते हैं।