ग्वालियर, अतुल सक्सेना । भारतीय जनता पार्टी द्वारा ग्वालियर में आयोजित तीन दिवसीय सदस्यता ग्रहण समारोह के बाद जारी आंकड़े को कांग्रेस सिरे से खारिज कर रही है। कांग्रेस का कहना है कि जो निष्ठावान कार्यकर्ता है जिसके कारण 15 साल बाद हमारी सरकार बनी वो अब भी हमारे साथ है। बस जयचंदों के साथ अलीबाबा चालीस चोर वाली टोली गई है।

भारतीय जनता पार्टी के तीन दिवसीय सदस्यता अभियान का जवाब देने के लिये कांग्रेस ने ग्वालियर में महा सदस्यता अभियान शुरू किया। जिसमें पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा, पूर्व मंत्री डॉ गोविंद सिंह, पूर्व मंत्री पीसी शर्मा, पूर्व मंत्री लाखन सिंह, पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एन पी प्रजापति सहित अन्य कई वरिष्ठ नेता शामिल हुए। सभी के निशाने पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ही रहे। पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह ने कहा कि सिंधिया जी अपने स्वार्थ के लिए पार्टी छोड़कर गए हैं और कमलनाथ जी पर आरोप लगा रहे हैं। आखिर गलती क्या थी कमलनाथ जी की, क्या किसानों का कर्ज माफ करना गलती थी, सिंधिया जी कहते हैं कि किसानों का कर्ज माफ नहीं हुआ, तो मैं बताना चाहता हूँ कि सिंधिया जी आपने 10 मार्च को कांग्रेस छोड़ी उससे सात दिन पहले ही आप करैरा विधानसभा में कर्ज माफी के प्रमाण पत्र बाँट रहे थे, क्या 100 रुपये में 100 यूनिट बिजली देकर कमलनाथ जी ने गलती की। अब देखिये पांच महीने में बिजली के बिलों का क्या हाल है। ऐसे ना जाने कितने उदाहरण हैं जिनका आपके पास जवाब नहीं होगा। जयवर्धन सिंह ने कहा कि भाजपा कहती है कि ग्वालियर चंबल संभाग में 76 हजार से ज्यादा कांग्रेसी भाजपा में शामिल हुए। ये फर्जी आंकड़ा है। एक जयचंद विधायक और उनके कुछ लोग गए हैं, आपने अलीबाबा चालीस चोर की कहानी सुनी होगी, वैसे ही लोग गए हैं। जो निष्ठावान कार्यकर्ता हैं, जिनके कारण कांग्रेस 15 साल बाद सत्ता में लौटी थी वो आज भी कांग्रेस के साथ ही है। उन्होंने कहा कि अब जनता समझती है जो विधायक 35-35 करोड़ रुपये लेकर बिक गए, जनता को धोखा दिया, उसका वोट बेचा। ऐसे गद्दारों को सबक सिखाने के लिए जनता तैयार बैठी है।  ग्वालियर चंबल संभाग में 16 सीटों पर उपचुनाव है और अब जनता ठान चुकी है कि अब बिकाऊ नहीं टिकाऊ चाहिए।