सिंधिया के कथित Viral Audio मामले में कोर्ट जाने की तैयारी में कांग्रेस

ग्वालियर।अतुल सक्सेना।

ज्योतिरादित्य सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) और एक कांग्रेस नेत्री के बीच 50 लाख के लेनदेन वाले कथित वीडियो को लेकर हमलावर हुई कांग्रेस (congress) ने अब कोर्ट जाने की चेतावनी दी है। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता एवं ग्वालियर चंबल संभाग के मीडिया प्रभारी केके मिश्रा (KK Mishra, chief spokesperson and media in-charge of Gwalior Chambal division) ने एडीजीपी एवं ग्वालियर के आईजी (ADGP and IG of Gwalior) को पत्र लिखकर सवाल किया है कि पार्टी ने निवेदन के बाद ऑडियो की निष्पक्ष जांच और एसआईटी (SIT) के गठन का क्या हुआ?

प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता एवं ग्वालियर चंबल संभाग के मीडिया प्रभारी केके मिश्रा ने एडीजीपी एवं ग्वालियर आईजी राजाबाबू सिंह को लिखे एक पत्र में आग्रह कर जानना चाहा है कि कांग्रेस द्वारा उन्हें पिछले दिनों 11 जून को दिये गये ज्ञापन और उसमें संलग्न सीडी, जिसमें कथित तौर पर भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं अशोक नगर निवासी श्रीमती अनीता जैन के बीच 2018 के विधानसभा चुनाव के दौरान विधानसभा टिकिट को लेकर 50 लाख रुपये के लेनदेन से संबंधित आडियो वायरल को लेकर एसआईटी के गठन और उसकी निष्पक्ष जांच को लेकर क्या कार्यवाही की गई? मिश्रा ने पत्र में आईजी से आग्रह किया कि इस कथित आडियो में सिंधिया और श्रीमती जैन के मध्य हुई बातचीत के दौरान श्री सिंधिया से अशोकनगर से टिकट के एवज में उनके निज सचिव पाराशर के कहने पर किसी अग्रवाल के घर 50 लाख रूपये रखे जाने की बात सामने आयी है। यह मामला सार्वजनिक जीवन की शुद्वता और राजनैतिक शुचिता से जुड़ा एक गंभीर मामला है। लिहाजा, कांग्रेस पार्टी ने इस मामले को लेकर एसआईटी का गठन कर जांच कराने और जांच सही पाये जाने पर कदाचार के कथित आरोपितों के खिलाफ एफआईआर करने का अनुरोध किया था। यदि एसआईटी का गठन हो चुका हो तो कांग्रेस पार्टी को कृपाकर सूचित किया जाए, किंतु पार्टी को आशंका है कि मामला प्रभावी राजनेताओं से जुड़े होने के कारण राजनैतिक दबाववश 10 दिन बीत जाने के बाद भी अभी तक कोई दिखायी देने वाली कार्यवाही नहीं हुई है! यदि ऐसा है तो कांग्रेस पार्टी दंड प्रक्रिया संहिता की धारा-200 के तहत न्यायालय में परिवाद प्रस्तुत करेगी।